देश के सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) ने फर्जी कॉल सेंटर को लेकर ग्राहकों को आगाह किया है. SBI ने अपने आधिकारिक टि्वटर हैंडल पर कहा है कि ग्राहक कॉल सेंटर पर फोन करते वक्त सतर्क रहें. एसबीआई ने ग्राहकों का ध्यान इस ओर खींचा है कि आजकल बैंक के नाम पर कई फर्जी कॉल सेंटर चल रहे हैं जहां ग्राहकों की जानकारी धोखे से ले ली जाती है. उस जानकारी के आधार पर ग्राहकों के बैंक खाते खाली कर दिए जाते हैं. एसबीआई ने कहा है कि ग्राहक जब भी कॉल सेंटर पर फोन करें तो यह सुनिश्चित कर लें कि वह आधिकारिक हो. एसबीआई के बताए कॉल सेंटर पर ही ग्राहकों को बैंकिंग से जुड़ी जानकारी लेनी चाहिए.

Advertisement

मध्यप्रदेश में सभी गरीबों को रहने के लिए दी जाएगी जमीन: शिवराज सिंह चौहान

ऐसी कई घटनाएं सामने आई हैं जिसमें कोई ग्राहक फर्जी कॉल सेंटर पर फोन कर लेता है और उसकी सारी जानकारी ले ली जाती है. फर्जी कॉल सेंटर पर कार्ड के नंबर और पिन यी सीवीवी भी पूछ लिए जाते हैं. फ्रॉड करने वाले लोगों के लिए यह जानकारी काफी है जिसके आधार पर बैंक अकाउंट खाली कर दिया जाता है. फ्रॉड करने वाले धोखे से ग्राहकों को फंसाते हैं और खाता बंद होने का डर दिखाकर डेबिट कार्ड से जुड़ी जानकारी पा लेते हैं. डेबिट कार्ड की जानकारी मिलते ही बड़ा फर्जीवाड़ा हो जाता है. स्टेट बैंक ने ग्राहकों से कहा है कि वे डेबिट या क्रेडिट कार्ड की जानकारी कभी लीक न करें क्योंकि बैंक ऐसी कोई जानकारी नहीं मांगता. स्टेट बैंक ने अपना आधिकारिक कॉल सेंटर नंबर जारी किया है और उसी नंबर पर फोन करने के लिए कहा है.

Jammu-Kashmir :सेना का हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त, हादसे में दोनों पायलटों की मौत

इस नंबर पर करें फोन

SBI ने अपने ग्राहकों के लिए 1800-425-3800 (टोल फ्री) या 080-26599990 नबंर दिया है जिस पर फोन कर बैंकिंग से जुड़ी जानकारी ली जा सकती है. स्टेट बैंक ने अपने ट्वीट में एक वीडियो जारी किया है जिसमें एक कस्टमर फर्जी कस्टमर केयर नंबर पर फोन करता है. इस फोन में फ्रॉडस्टर बैंक के बताए नियमों का उल्लंघन करता है और कस्टमर से सारी जानकारी हासिल कर लेता है. वीडियो के अंत में कहा गया है कि ऐसी कोई भी शिकायत होने पर इसकी रिपोर्ट तुरंत दर्ज कराएं. इसके लिए ग्राहक report.phising@sbi.co.in पर रिपोर्ट कर सकते हैं या साइबर क्राइम हेल्पलाइन नंबर 155260 पर फोन कर सकते हैं.

विराट कोहली छोड़ देंगे RCB की कप्तानी, सोशल मीडिया पर किया ऐलान

गूगल पर सर्च करते वक्त सावधान

कस्टमर केयर नंबर लेने के लिए सबसे आसान उपाय गूगल है जहां लोग सर्च करते हैं. फ्रॉडस्टर इसी का फायदा उठाते हैं और गूगल पर अपने फर्जी नंबर पर रजिस्टर करा देते हैं. इस नंबर पर फोन करने वाला व्यक्ति आसानी से लूट का शिकार हो जाता है. इस घटना को फिशिंग स्कैम कहते हैं. फिशिंग का माध्यम इंटरनेट होता है जहां लोग अक्सर और आसानी से फंस जाते हैं. फ्रॉड करने वाले अपराधी लोगों को शिकार बनाने के लिए टि्वटर, गूगल और फेसबुक जैसे प्लेटफॉर्म का सहारा लेते हैं. इन प्लेटफॉर्म पर विज्ञापन देकर अपने नंबर पर फोन करने के लिए उकसाया जाता है.

SEO से भी छेड़छाड़

कई बार ऐसा भी होता है कि फ्रॉडस्टर गूगल और उसकी SEO का सहारा लेकर सर्च में अपना फ्रॉड नंबर सबसे ऊपर करा लेते हैं. ग्राहक को सबसे ऊपर फर्जी कस्टमर केयर के नंबर दिखते हैं और वह फोन कर बैठता है. इस नंबर पर फ्रॉडस्टर ग्राहकों से पूरी डिटेल मांग लेते हैं. पहले तो ये कहते हैं कि आपका खाता बंद हो गया है. फिर इसे शुरू कराने के लिए डेबिट कार्ड का नंबर मांगते हैं. डेबिट कार्ड का नंबर देते हीं बैंक अकाउंट खाली हो जाता है. फ्रॉड करने वाले ग्राहक से एटीएम और पिन भी मांग लेते हैं. फ्रॉड करने वाले गूगल मैप पर भी छेड़छाड़ कर बैंक की गलत जानकारी देते हैं.

हमसे व्हाट्सएप ग्रुप पर जुड़े

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply