कोरोना महामारी में अपनी जान बचाने को लेकर लोग इतने निष्ठुर हो चले हैं कि अपनों को कंधा देने तक के लिए भी आगे नहीं आ रहे हैं. उत्तर प्रदेश में एक ऐसा ही मामला सामने आया है जहां अपनों के ठुकराने पर यूपी पुलिस मसीहा बनकर सामने आई और शव का अंतिम संस्कार किया.

Advertisement

भोपाल: 45+ के लोग कार में बैठ-बैठे ही लगवा सकेंगे वैक्सीन; बुक करने पर नगर निगम पिक एंड ड्रॉप की देगा सुविधा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साफ निर्देश हैं कि जिन लोगों की मदद के लिए उनके अपनों ने मुंह मोड़ लिया है, उनकी मदद के लिए उत्तर प्रदेश सरकार है. सिद्धार्थनगर के डुमरियागंज में सीएम योगी के निर्देश पर यूपी पुलिस ने एक बार संवेदनशीलता दिखाते हुए 18 घंटे से पड़े शव का अंतिम संस्कार करवाया. बता दें कि सोशल मीडिया पर वायरल हुए मामले के बाद मुख्यमंत्री योगी ने संज्ञान लेते हुए मृतक चंद्र शेखर का अंतिम संस्कार कराया. चंद्र शेखर बीते कई दिनों से बीमार चल रहा था.

भोपाल के जावेद को निःशुल्क सेवा की चुकानी पड़ी कीमत, पुलिस ने बताया ऑक्सीजन की कालाबाजारी करने वाला

ऐसे में बीते 30 अप्रैल को उसकी हालत अचानक बिगड़ गई, जिसके बाद उसकी मौत हो गई. जिसके बाद कोरोना के डर से गांव का कोई भी व्यक्ति शव का दाह संस्कार और कंधा देने को तैयार नहीं था. ऐसे में सोशल मीडिया के माध्यम से जब इसकी सूचना मुख्यमंत्री कार्यालय को मिली तो तत्काल सीएम योगी के आदेश पर एसपी सिद्धार्थनगर मौके पर पहुंचे.

केंद्रीय मंत्री का आदमी डॉ को दे रहा धमकी मेरे मरीजों को देखो वरना नोकरी से निकलवा दूंगा

पुलिस ने मौके पर पहुंच कर तत्काल समस्त धार्मिक प्रक्रिया को पूरा कर शव को कंधा दिया और शव का अंतिम संस्कार करवाया. इससे पहले जौनपुर, लखनऊ, नोएडा जैसे तमाम ऐसे मामले हैं, जब उत्तर प्रदेश पुलिस ने अपना बनकर लोगों के शवों को कंधा दिया और उनका अंतिम संस्कार कराया है.

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply