कहां मैसेज सोर्स का पता लगाने की तकनीक नहीं लाएगा ।

WhatsApp में अपने Facebook पर संदेश के मूल स्रोत का पता लगाने के लिए सॉफ्टवेयर विकसित करने से इंकार कर दिया है सरकार ने कंपनी से इस तरह की टेक्नोलॉजी लाने की मांग डिमांड की थी जिसे उसने ठुकरा दिया। सरकार चाहती थी कि WhatsApp ऐसा समाधान विकसित करें जिससे फर्जी है झूंठी सूचनाओं के स्रोत का पता लगाया जा सके।

उल्लेखनीय है कि इस तरह की फर्जी सूचनाओं से देश में भीड़ की पिटाई से हत्या की घटनाएं हुई हैं इस बारे में WhatsApp के प्रवक्ता ने कहा कि

इस तरह का सॉफ्टवेयर बनाने से एक किनारे से दूसरे किनारे तक कूट भाषा (एंड टू एंड एंक्रिप्शन) प्रभावित होगी और WhatsApp का निजी प्रकृति पर भी असर पड़ेगा ऐसा करने से इसके दुरुपयोग की संभावना पैदा होगी हम निजता संरक्षण को कमजोर नही करेंगे

लोग WhatsApp के जरिए सभी प्रकार की संवेदनशील सूचनाओं का आदान-प्रदान करने के लिए निर्भर हैं चाहे वह उनके चिकित्सक हो बैंक या परिवार के सदस्य हो प्रवक्ता ने कहा हमारा ध्यान भारत में दूसरों के साथ मिलकर काम करने और लोगों को गलत सूचना के बारे में शिक्षित करने पर है इसके जरिए हम लोगों को सुरक्षित रखना चाहते हैं

रिपोर्ट:-संदीप कुमार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here