मणिपुर में भड़की हिंसा,सेना को तैनात कर हजारों लोगों को सुरक्षित निकाला

मणिपुर में भड़की हिंसा,सेना को तैनात कर हजारों लोगों को सुरक्षित निकाला

Share this News

आदिवासियों के आंदोलन के दौरान मणिपुर में भड़की हिंसा स्थिति नियंत्रित करने के लिए सेना को करना पड़ा तैनात

आदिवासियों के आंदोलन के दौरान मणिपुर में भड़की हिंसा,हिंसा भड़कने के बाद स्थिति नियंत्रित करने के लिए सेना और असम राइफल्स को तैनात किया गया है. सेना के सूत्रों के मुताबिक भारतीय सेना और असम राइफल्स ने मणिपुर में कानून व्यवस्था बहाल करने के लिए रात भर सभी समुदायों के 7,500 से अधिक नागरिकों को निकालने के लिए बड़े बचाव अभियान चलाए. बचाई गई आबादी को सहायता प्रदान करने के लिए सेना और असम राइफल्स द्वारा हर संभव सहायता प्रदान की जा रही है.

सेना के एक प्रवक्ता ने गुरुवार को बताया कि रात में सेना और असम राइफल्स की मांग की गई थी और राज्य पुलिस के साथ बलों ने सुबह तक हिंसा पर नियंत्रण पा लिया. उन्होंने बताया, ‘स्थिति को नियंत्रण में रखने के लिए फ्लैग मार्च किया जा रहा है.’

“The Kerala Story” पर रोक को लेकर जानें सुप्रीम कोर्ट ने क्या कहा?,निर्माताओं ने यूट्यूब पर रिलीज ट्रेलर का ड‍िस्‍क्र‍िप्‍शन बदला..!

पुलिस ने दागे आंसू गैस के गोले
अधिकारी ने बताया कि पुलिस ने स्थिति को नियंत्रित करने के लिए कई बार आंसू गैस के गोले छोड़े. उन्होंने बताया कि उत्तेजित युवकों को इंफाल पश्चिम जिले के कांचीपुर और घाटी में पूर्वी इंफाल के सोइबाम लीकाई इलाकों में इकट्ठा होते देखा गया.

गृहमंत्री ने की मुख्यमंत्री से बात
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह से गुरुवार को बातचीत की और वहां आदिवासी आंदोलन के दौरान भड़की हिंसा के बारे में जानकारी ली. केन्द्र मणिपुर के हालात पर करीब से नजर रख रहा है और उसने पूर्वोत्तर राज्य के हिंसा प्रभावित इलाकों में तैनाती के लिए त्वरित कार्य बल (आरएएफ) के दल भेजे हैं. आएएफ दंगे जैसे हालात को काबू में करने के लिए दक्ष बल है.

बुधवार को भड़की हिंसा
मैतेई समुदाय को अनुसूचित जनजाति (एसटी) की श्रेणी में शामिल करने की मांग का विरोध करने के लिए छात्रों के एक संगठन ने चूराचांदपुर जिले के तोरबंग इलाके में बुधवार को ‘आदिवासी एकता मार्च’ आयोजित किया था और इस दौरान हिंसा हुई. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि रैली में हजारों आंदोलनकारियों ने हिस्सा लिया और इस दौरान तोरबंग इलाके में आदिवासियों और गैर-आदिवासियों के बीच झड़पें हुईं.

MP में चुनाव से पहले बीजेपी को बड़ा झटका,पूर्व मंत्री 6 मई को ज्वाइन कर सकते हैं कांग्रेस

आरएएफ को भेजा गया
आधिकारिक सूत्रों ने बताया आरएएफ की पांच कंपनियों को वायुसेना के विशेष विमान से इंफाल भेजा गया है. वहीं 15 अन्य सामान्य ड्यूटी कंपनियों को राज्य में तैनाती के लिए तैयार रहने को कहा गया है. सूत्रों ने बताया कि केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल की 15 कंपनियां मणिपुर में तैनाती के लिए मौजूद हैं.

कई जिलों में लगा कर्फ्यू, राज्य में इंटरनेट बंद
अधिकारी ने बताया कि देखते हुए गैर-आदिवासी बहुल इंफाल पश्चिम, काकचिंग, थौबल, जिरिबाम और विष्णुपुर जिलों तथा आदिवासी बहुल चुराचांदपुर, कांगपोकपी और तेंगनौपाल जिलों में कर्फ्यू लगा दिया गया. पूरे राज्य में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं पांच दिन के लिए निलंबित कर दी गईं हैं.

(इनपुट – एजेंसी)

Download our App Now

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

क्यों इतनी तेजी से फैल रहा आई फ्लू,काला चश्मा पहनने से मिलेगा लाभ कैसै बना बजरंग दल,जाने क्या है इसका इतिहास जानिए पहलवानों के आरोप और विवादों में घिरे ब्रजभूषण शरणसिंह कौन है?. Most Dangerous Dog Breeds: ये हैं दुनिया के पांच सबसे खतरनाक कुत्ते जाति प्रमाण पत्र कैसे बनाये, जाति प्रमाण पत्र कितने दिन में बनता है