भारतीय नौसेना ने विदेशों से भारतीय नागरिकों को वापस लाने के राष्ट्रीय प्रयास के रूप में ऑपरेशन ‘समुद्र सेतु’ शुरू किया है. भारतीय नौसैनिक जहाज जलश्व एक अन्य जहाज के साथ मालदीव गणराज्य के बंदरगाह में प्रवेश कर रहे हैं. इस ऑपरेशन के पहले चरण में 08 मई 2020 से भारतीय नागरिकों का निकासी अभियान शुरू होगा.

Advertisement

विदेशों में रह रहे भारतीय नागरिकों पर COVID-19 महामारी के प्रभाव के संबंध में भारत सरकार बारीकी से निगरानी कर रही है. भारतीय नौसेना को निर्देश दिया गया है कि विदेश में फंसे नागरिकों की समुद्र के रास्ते निकासी के लिए उपयुक्त तैयारी की जाए.

मल्टीप्लैक्स एसोसिएशन की अपील- थिएटर का सम्मान करें, इनके खुलने पर ही फिल्मों को रिलीज करें प्रोड्यूसर

मालदीव गणराज्य में भारतीय मिशन उन भारतीय नागरिकों की एक सूची तैयार कर रहा है जिन्हें नौसेना के जहाजों द्वारा लाया जाना है. उन सबकी जरूरी चिकित्सा स्क्रीनिंग के बाद उन्हें जहाजों से भारत लाया जाएगा. पहली यात्रा के दौरान कुल 1000 नागरिकों को लाने की योजना बनाई गई है, जिसमें जहाज पर उपलब्ध क्षमता और चिकित्सा सुविधाओं के साथ सोशल डिस्टेंसिंग का भी ख्याल रखा जाएगा.

नौसेना के जहाजों में निकासी ऑपरेशन के लिए उपयुक्त प्रावधान किए गए हैं. जिन नागरिकों को वहां से लाया जाएगा, उन्हें समुद्र-यात्रा के दौरान बुनियादी सुविधाएं और जरूरी चिकित्सा सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी. COVID-19 से जुड़ी चुनौतियों के मद्देनजर कड़े प्रोटोकॉल भी निर्धारित किए गए हैं.

कोरोनावायरस से लड़ने के लिये सेना के 8,500 डॉक्टर और सपोर्ट स्टाफ नागरिक प्रशासन की मदद के लिये तैयार

विदेश से लाए गए इन नागरिकों को केरल के कोच्चि में उतारा जाएगा और वहां आगे की देखभाल के लिए राज्य के अधिकारियों को सौंप दिया जाएगा. यह ऑपरेशन भारत सरकार के रक्षा मंत्रालय, विदेश मंत्रालय, गृह मंत्रालय, स्वास्थ्य मंत्रालय, विभिन्न एजेंसियों और राज्य सरकारों के समन्वय से आगे बढ़ रहा है.

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply