मोदी सरकार के पास सवर्ण आरक्षण विधेयक पारित कराने के लिए सिर्फ एक दिन का समय बचा है

8 जनवरी को संसद के शीतकालीन सत्र का आखिरी दिन है सवर्ण आरक्षण को पारित कराने के लिए सरकार के पास मंगलवार तक का ही वक्त है अगर शीतकालीन सत्र में यह बिल पास नहीं हुआ तो फिर मामला लटक सकता है क्योंकि लोकसभा चुनाव से पहले संसद का सिर्फ बजट सत्र बचा है मगर बजट सत्र शुरू होने तक आदर्श आचार संहिता लगने की प्रबल संभावना है ऐसे में इस सत्र में या बिल पारित नहीं हो सकता इस प्रकार जो होना है तो इसी सत्र में होना

ऐसे में मंगलवार को संसद होते ही सुबह-सुबह सरकार को लोकसभा में आर्थिक आधार पर सामान्य वर्ग को आरक्षण देने के लिए संशोधन विधेयक पेश करना होगा लोकसभा में बहुमत है तो सरकार कुछ ही समय में विधेयक पास करा ले जाएगी मगर क्या यह विधेयक राज्यसभा में भी उसी दिन पास हो पाएगा इस पर संशय है वजह की मोदी सरकार के पास उच्च सदन में बहुमत नहीं है चुनाव से पहले बीजेपी इस फैसले के जरिए राजनीतिक लाभ हासिल कर ले इस प्रस्ताव को विपक्ष एक रणनीति और राजनीति के तहत समीक्षा के लिए कमेटी को भेजने की मांग उठा सकता है जिससे इस बिल को पारित करने में देर लग सकती है
@sandeep

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply