रूस ने कहा है कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपने देश का सर्वोच्‍च नागरिक सम्‍मान (आर्डर ऑफ सेंट एंड्रयू द अपॉसल) देगा।

Advertisement

यह जानकारी नई दिल्‍ली स्थित रूसी दूतावास ने शुक्रवार को दी। यह अवार्ड उन हस्तियों को दिया जाता है जो रूस के साथ संबंधों को मजबूत बनाने में अंतरराष्ट्रीय नेतृत्व में योगदान करते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी यह पुरस्‍कार भारत और रूस के बीच संबंधों को मजबूती देने के लिए दिया जा रहा है।

इस सम्मान की विशेषता इस बात से समझी जा सकती है कि इसकी स्थापना रूस से महानतम जार शासक ने वर्ष 1698 में की थी और हाल के वर्षों में ही इसे गैर रूसी व्यक्तित्वों को देने की परंपरा शुरु की गई थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पहले यह सम्‍मान चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग, कजाखस्तान के राष्ट्रपति नजारबायेव और अजरबेजान के राष्ट्रपति हैदर अलीयेव को दिया गया है।

रूस सरकार की तरफ से जारी संक्षिप्त बयान में बताया गया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को यह सम्मान भारत और रूस के बीच रिश्तों को आगे बनाने और विशेष रणनीतिक साझेदारी को मजबूत बनाने के लिए दिया गया है। रूस का कहना है कि यह सम्मान प्रबुद्ध राजनेताओं, विज्ञान, कला, संस्कृति में बेहतरीन योगदान देने वाले सार्वजनिक जीवन के शख्‍सीयतों को दिया जाता है। दूसरे देशों के राष्ट्र प्रमुखों को भी उनके विशिष्ठ योगदान के लिए यह सम्मान दिया जाता है।

सनद रहे कि कुछ हफ्ते पहले ही संयुक्त अरब अमीरात सरकार ने अपने सबसे बड़ा नागरिक सम्मान जायेद मेडल से पीएम नरेंद्र मोदी को सम्मानित करने का ऐलान किया था। यह सम्मान भी उन्हें भारत और यूएई के रिश्तों को नई ऊंचाई पर पहुंचाने के लिए दिया गया है। पीएम मोदी को अभी तक उक्त दोनों सम्मानों के अलावा पांच और अंतरराष्ट्रीय सम्मानों से नवाजा जा चुका है। अक्टूबर, 2018 में उन्हें सोल पीस पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

दक्षिण कोरिया सरकार की तरफ से पुरस्कार अंतरराष्ट्रीय अर्थव्यवस्था में मोदी की कोशिशों की वजह से दिया गया था। उसके ठीक पहले सितंबर, 2018 में मोदी को यूएन चैंपियंस ऑफ द अर्थ पुरस्कार दिया गया था। यह पर्यावरण के क्षेत्र में संयुक्त राष्ट्र का सबसे बड़ा पुरस्कार है। उसके पहले फिलिस्तीन सरकार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘ग्रैंड कॉलर ऑफ द स्टेट ऑफ फिलिस्तीन’ दिया था। यह पुरस्कार मोदी को तब भेंट किया गया तब वह फिलिस्तीन की यात्रा पर गये थे। यह भी बताते चलें कि बतौर पीएम वह फिलिस्तीन की यात्रा करने वाले भारत के पहले प्रधानमंत्री हैं।

YouTube player

पीएम मोदी को वर्ष 2016 में अफगानिस्तान सरकार ने अमीर अबदुल्लाह खान अवार्ड दिया था। अफगानिस्तान का यह सबसे बड़ा नागरिक सम्मान है जिसे राष्ट्रपति अशरफ गनी ने मोदी को उनकी काबुल यात्रा के दौरान दिया। वर्ष 2016 में ही मोदी को किंग अब्दुलअजीज सैश अवार्ड भी दिया गया। यह पुरस्कार उनसे पहले अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा, इग्लैंड के पूर्व पीएम डेविड कैमरून, रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन, जापान के पीएम शिंजो आबे जैसी हस्तियों को दिया जा चुका है।

@vicharodaya/Vicky

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply