अस्पताल के सामने की सड़क को सील कर दिया गया था क्योंकि बार बार फैंस ऋषि कपूर के अंतिम दर्शन के लिए जुट रहे थे. इसके मद्देनजर पुलिस ने अस्पताल के बाहर बैरिकेडिंग लगा दी थी. मुंबई पलिस ने लोगों को हिदायत दी कि कोई अस्पताल के सामने नहीं आएगा.

Advertisement

हिंदी सिनेमा के एक और चमकते सितारे एक्टर ऋष‍ि कपूर ने 30 अप्रैल 2020 को अलिवदा कह दिया. उनके अंतिम संस्कार में परिवार के 20 लोग मौजूद रहे. दुखद बात यह रही कि उनके अंतिम संस्कार में बेटी रिद्ध‍िमा चाहकर भी पहुंच नहीं पाईं. हालांकि उन्हें गुरुवार सुबह दिल्ली पुलिस ने मूवमेंट पास दे दिया था लेकिन मुंबई तक का सफर लंबा होनके की वजह से वे पिता के अंतिम संस्कार में शामिल नहीं हो पाईं.

ऋष‍ि कपूर का अंतिम संस्कार चंदनवाड़ी श्मशान घाट में इलेक्ट्र‍िक प्रणाली से किया गया. इस मौके पर सैफ अली खान, करीना कपूर, आलिया भट्ट, अभ‍िषेक बच्चन, नीतू कपूर, आदर जैन, कुणाल कपूर समेत कपूर परिवार के नजदीकी लो शामिल थे. उन्हें अंतिम विदाई देने पांच अन्य नजदीकी लोग भी शामिल हुए. ऋषि का निधन पूरे कपूर खानदान के लिए बड़ा झटका है. खासकर नीतू कपूर, रणबीर और रिद्धिमा कपूर के लिए इस दुखद घड़ी का सामना करना बेहद चुनौतीपूर्ण है.

रिपोर्ट के मुताबिक रिद्ध‍िमा दिल्ली में रहती हैं. लॉकडाउन की वजह से उन्हें दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है. हालांकि ऋष‍ि के दिल्ली में मौजूद रिश्तेदारों को सड़क के रास्ते मुंबई लाने की परमिशन मिल गई है. ऋषि कपूर की बेटी ने साऊथ ईस्ट डीसीपी से मूवमेंट पास की परमिशन दी थी. सुबह 10.30 बजे उनकी परमिशन अप्रूव्ड कर दी गई थी. उन्होंने वाया रोड जाने की तैयारी उनकी बेटी रिद्ध‍िमा ने कर ली थी लेकिन उन्हें 14 से 15 घंटे मुंबई पहुंचने में लग जाते. ऐसे में बीएमसी ने ये साफ कहा कि हालात देखते हुए तीन बजे तक अंतिम संस्कार करना ही होगा. रिद्धि‍मा और बाकी परिवार वालों ने फिर उनके नहीं आने पर ही सहमति बनाई. हालांकि ऋषि कपूर की बेटी उनके बहुत करीब रहीं. उनका नहीं पहुंच पाना परिवार के लिए और खुद रिद्ध‍िमा के लिए मुश्किल फैसला रहा.

https://youtu.be/gMONbnZ4ops

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply