सरकारी बैंकों के लाखों कर्मचारी सोमवार और मंगलवार को दो दिनों की हड़ताल पर रहेंगे. दो सार्वजनिक बैंकों के निजीकरण के विरोध और कई अन्य मांगों को लेकर बैंक कर्मी हड़ताल पर जा रहे हैं. इस हड़ताल में ग्रामीण बैंक भी शामिल होंगे.

Advertisement

हरिद्वार में एक अप्रैल से लगेगा कुंभ मेला, तैयारियों पर सीएम की बैठक आज

यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स के 10 लाख कर्मचारी केंद्र सरकार की नीतियों के ख‍िलाफ पिछले महीने से ही प्रदर्शन कर रहे हैं और अब 15 एवं 16 मार्च को दो दिन की हड़ताल का ऐलान किया गया है. गौरतलब है कि शनिवार और रविवार को भी बैंक बंद थे, इस तरह सरकारी बैंकों का कामकाज लगातार चार दिन तक ठप रहेगा.

क्या होगा ATM-ऑनलाइन सेवाओं पर असर

सलमान खान की मोस्‍ट अवेटेड फिल्‍म ‘राधे: योर मोस्ट वांटेड भाई’ की रिलीज डेट का हुआ ऐलान

इस हड़ताल की वजह से शाखाओं में जमा, निकासी, चेक क्लियरेंस, लोन मंजूरी जैसे सभी काम बंद रहेंगे. हालांकि एटीएम सेवाएं जारी रहेंगी. वहीं हड़ताल के दौरान ऑनलाइन जैसे दूसरे ट्रांजैक्शन के विकल्प ग्राहकों के सामने उपलब्ध होंगे.

ग्राहक 15 और 16 मार्च को ब्रांच जाने के बजाय यूपीआई पेमेंट सर्विसेज के जरिये भी ट्रांजैक्शन कर सकते हैं. घर बैठे नेट बैंकिंग सेवाओं का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. एटीएम पर भी इस हड़ताल का असर नहीं पड़ने वाला है. यानी आपके पास कई तरह के विकल्प मौजूद हैं. हर बैंक के अपने मोबाइल ऐप हैं.

क्यों हो रही हड़ताल

एक-दो दिन में भोपाल और इंदौर में लग सकता है नाइट कर्फ्यू: शिवराज

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट में IDBI Bank बैंक के अलावा दो और सरकारी बैंकों के निजीकरण का ऐलान किया था. जिसका बैंक कर्मचारी यूनियनों की ओर से लगातार विरोध किया जा रहा है. अब विरोध हड़ताल का रूप ले रहा है.

गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने अगले वित्त वर्ष (2021-22) के दौरान विनिवेश के जरिये 1.75 लाख करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य रखा है. बैंकों के निजीकरण के अलावा सरकार ने एक जनरल इंश्योरेंस कंपनी को भी अगले वित्त वर्ष में निजीकरण करने का फैसला लिया है.

कुछ बैंकों ने पहले ही बता दिया है कि उनके यहां हड़ताल की वजह से कामकाज बाधित होंगे, यानी ग्राहकों को परेशानी होने वाली है. बैंक यूनियनों का कहना है कि इस हड़ताल में देशभर के 10 लाख से अधिक कर्मचारी शामिल होंगे. भारतीय स्टेट बैंक सहित कई बैंकों ने अपने ग्राहकों को इस हड़ताल के बारे में सचेत भी कर दिया है. हालांकि बैंक मैनेजमेंट का कहना है क‍ि वे इस बात की कोशिश कर रहे हैं कि कामकाज को चलाया जा सके.

60 साल से ऊपर वाले लोगों को मोदी सरकार देगी 3000 रुपये महीना, ऐसे कराएं रेजिस्ट्रेशन

निजी बैंकों पर असर नहीं

निजी क्षेत्र के एचडीएफसी बैंक, ICICI बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक, एक्सिस बैंक और इंडसइंड बैंक जैसे अन्य निजी बैंकों के कामकाज पर कोई असर नहीं होगा

3-4 माह टल सकते हैं नगरीय निकाय चुनाव,नगर सरकार के लिए इंतजार जारी

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply