प्रदेश ही नहीं पूरे देश में इन दिनों कोरोना संक्रमण से कोहराम मचा है। दिन पर दिन बढ़ रहे कोरोना वायरस के संक्रमण ने कहर बरपा रखा है। कोरोना से हो रही मौतों की संख्या बढ़ती जा रही है। श्मशान घाट में लाशों का ढेर लगा हुआ। चिता को जलाने के लिए लोगों को लाइन लगानी पड़ रही है। कोरोना का डर लोगों के जेहन में इस कदर बैठ गया है कि साधारण मौत पर भी लोग शव के पास जाने से कतरा रहे हैं। ऐसा ही एक मामला यूपी के लखीमपुर खीरी जिले से सामने आया है। यहां एक के बाद तीन मौतों ने परिवार को पहले ही झकझोर कर रख दिया है। कोरोना के चलते शव को उठाना तो दूर लोगों ने उसके पास तक आने तक ही जेहमत नहीं उठाई।

Advertisement

भोपाल के सरकारी अस्पताल से हुई 800 से ज्यादा रेमडेसिविर इंजेक्शन की चोरी ,जांच में जुटी पुलिस

लखीमपुर खीरी के मोहल्ला शांतिनगर में आठ घंटे में तीन भाइयों ने दुनिया को अलविदा कह दिया। तीनों भाई पेशे से व्यापारी थे। बताते हैं कि शुक्रवार सुबह एक व्यापारी की मौत हो गई, दो भाइयों को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। पहले भाई की मौत के बाद परिवार वालों ने उसकी चिता का अंतिम संस्कार कर दिया। एक भाई का अंतिम संस्कार करके परिवार के अन्य लोग लौटे ही थे कि अस्पताल में भर्ती दोनों भाइयों ने भी दम तोड़ दिया। एक के बाद तीन मौतों ने परिवार को मानों हिलाकर रख दिया हो। अचानक हुई तीन भाइयों की मौत ने लोगों के मन में कोरोना का डर फैल गया। आसपास के लोगों ने शवों के पास जाने से तक से इनकार कर दिया। दोनों की मौत के बाद उन्हें जब पोस्टमार्टम के लिए ले जाया गया तो पोस्टमार्टम करने से भी इनकार कर दिया गया।

मरीज की मौत पर परिजनों ने मचाया हंगामा तो डॉक्टर ने खोया आपा, अस्पताल का दावा मरीज की हॉस्पिटल लाने से पहले हुई थी मौत

उधर मोहल्लों वालों ने पैसा इकट्ठा करके लावारिस लाश ढोने वाले कमरुद्दीन को बुलाया। उसे पैसा देकर दोनों के शवों को लावरिस में अंतिम संस्कार करवाया। अस्पताल प्रशासन ने कोरोना से मौत होने की बात से इनकार किया है। हालांकि तीनों की मौत कैसे हुई अभी इसकी जानकारी नहीं हो पाई है।

ममता हुई शर्मसार: मूर्ति के सामने दे दी 6 महीने की बेटी की बल‍ि, पुल‍िस जॉब की तैयारी कर रही थी मह‍िला

 

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply