मुख्यमंत्री का OSD बताकर सरकारी कर्मचारियों को ठगने वाले अपराधी चढ़े पुलिस के हत्थे

Share this News

सरकारी कर्मचारियों को ठगने वाले 2 जालसाजो को भोपाल साइबर क्राइम ब्रांच ने हिरासत में लिया है यह दोनों अपराधी अब तक आधा दर्जन से अधिक सरकारी कर्मचारियों को ठग चुके हैं यह अपराधी खुद को मुख्यमंत्री का OSD बताकर वारदात को अंजाम देते थे

भोपाल: भोपाल साइबर क्राइम ब्रांच ने दो जालसाजों को गिरफ्तार किया है जो खुद को मुख्यमंत्री का OSD (ऑफिसर ऑन स्पेशल ड्यूटी) बताकर सरकारी कर्मचारियों से ठगी करते थे। ये जालसाज अब तक 6 कर्मचारियों से 20 लाख रुपए से अधिक की ठगी कर चुके हैं।

मामले का खुलासा कैसे हुआ?

एक कर्मचारी ने जब इन जालसाजों के झांसे में आकर ढाई लाख रुपए दे दिए, तो उसने भोपाल साइबर क्राइम ब्रांच में शिकायत दर्ज करवाई। पुलिस ने शिकायत के आधार पर जांच शुरू की और तकनीकी एनालिसिस और मैदानी स्तर पर मिले साक्ष्यों के आधार पर निवाड़ी जिले के सौरभ बिलगाइया (32) और हरबल कुशवाह( 23) को गिरफ्तार कर लिया।

भदभदा बस्ती पर बुलडोजर एक्शन के खिलाफ मानव अधिकार आयोग जाएंगे पीसी शर्मा.

यह कैसे काम करते थे?

  • सबसे पहले, वे कर्मचारी के मोबाइल नंबर पर एक फर्जी ट्रांसफर लिस्ट भेजते थे।
  • इस लिस्ट को भेजने के लिए वे एक ऐसे वाट्सऐप नंबर का इस्तेमाल करते थे, जिसकी डीपी (डिस्प्ले पिक्चर) में मध्यप्रदेश सरकार का लोगो होता था।
  • इसके बाद सौरभ कर्मचारी को फोन करता और खुद को मुख्यमंत्री का OSD बताता।
  • वह कर्मचारी को डराता-धमकाता और उसका ट्रांसफर रुकवाने के लिए पैसे की मांग करता।
  • ठगी के पैसे प्राप्त करने के लिए वे गांव के आसपास मनी ट्रांसफर वालों के खातों का इस्तेमाल करते थे।

पुलिस ने क्या कार्रवाई की?

पुलिस ने दोनों आरोपियों को शुक्रवार को कोर्ट में पेश किया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया। पुलिस ने उनके पास से 2 मोबाइल फोन और 2 सिम कार्ड भी जब्त किए हैं।

यह घटना सरकारी कर्मचारियों के लिए एक चेतावनी है। उन्हें ऐसे जालसाजों से सावधान रहना चाहिए और किसी भी अनजान व्यक्ति को पैसे नहीं देने चाहिए।

हमें व्हाट्सएप पर फॉलो करें