मध्यप्रदेश में मंडरा रहा सुखे का डर इंदौर-जबलपुर समेत 33 जिले रेड जोन में..

मध्यप्रदेश में मंडरा रहा सुखे का डर इंदौर-जबलपुर समेत 33 जिले रेड जोन में..

Share this News

मध्यप्रदेश में समय से पहले धमाकेदार दस्तक देना वाला मानसून रूठ सा गया है। हालात यह हैं कि कई जगह सूखे के हालात बनने लगे हैं। प्रदेश में 19 जुलाई तक करीब 300 मिमी बारिश होना चाहिए थी, लेकिन 230 मिमी ही हुई है। यह सामान्य कोटे से करीब 24% कम है। मुरैना और पन्ना में तो हालत और खराब हैं।

यहां अभी भी कोटे से 70% तक कम पानी गिरा है। इंदौर और जबलपुर की स्थिति भी अच्छी नहीं है। मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने बताया कि अब तक स्थिति में बारिश में काफी कमी आई है। यह स्थिति पिछले साल जैसी बन गई है। हालांकि अब जुलाई के अंतिम सप्ताह में मानसून के सक्रिय होने की उम्मीद बढ़ गई है। अभी कई सिस्टम बन रहे हैं। ऐसे में तीन-चार दिन बाद अच्छी बारिश होने की संभावना बढ़ गई है।

यह सिस्टम बन रहा

वैज्ञानिक साहा ने बताया कि साउथ वेस्ट यूपी के पास सिस्टम बन रहा है। ट्रफ लाइन भी ग्वालियर होते हुए जा रही है। इसके कारण इन इलाकों में बारिश होने लगी है। बंगाल में 23 जुलाई को सिस्टम बनने वाला है। यहां लो प्रेशर एरिया बन रहा है। एक साउथ गुजरात के पास ऊपरी हवा का चक्रवात है। अरेबियन सी में भी एक सिस्टम है। सभी सिस्टम के एक साथ मिलने पर अच्छी बारिश होने लगेगी। दो से चार दिन में झमाझम की उम्मीद बन गई है। अगले एक सप्ताह तक अच्छा पानी गिरने की उम्मीद है।

सेल्फी के लिए 100 रुपए देने होंगे मध्य प्रदेश की पर्यटन,संस्कृति मंत्री ऊषा ठाकुर का बयान

यहां 50% से 70% तक कम पानी गिरा

सबसे खराब स्थिति वाले जिले पन्ना, छतरपुर, टीकमगढ़, दतिया और दमोह में 50 से लेकर करीब 70% पानी कम गिरा।

सामान्य से 50% कम बारिश हुई

भिंड, ग्वालियर, श्योपुर, शिवपुरी, अशोकनगर, गुना, सागर, राजगढ़, शाजापुर, आगर मालवा, मंदसौर, उज्जैन, इंदौर, धार, आलीराजपुर, बड़वानी, खरगोन, खंडवा, हरदा, होशंगाबाद, सिवनी, बालाघाट, डिंडोरी, अनूपपुर, उमरिया, जबलपुर, कटनी और सतना में 20% से लेकर 50% तक सामान्य से कम बारिश हुई। यहां स्थिति चिंताजनक है।

यह ठीक बारिश लेकिन सामान्य से कम

विदिशा, छिंदवाड़ा, बैतूल, बुरहानपुर, रतलाम, झाबुआ, नीमच, मंडला और शहडोल में 1% से लेकर 19% तक कम बारिश हुई है। हालांकि मौसम विभाग के अनुसार यहां स्थिति सामान्य है।

रीवा पुलिस के हत्थे चढ़ा पेशेवर गांजा तस्कर,आरोपी पर NTPS एक्ट के 13 मुकदमे दर्ज

यहां संतोषजनक स्थिति
अभी तक मध्य प्रदेश का सिर्फ एक ही जिला सिंगरौली ऐसा है, जहां पर सामान्य से 45% तक ज्यादा बारिश हो चुकी है। इस मामले में रायसेन, भोपाल और नरसिंहपुर की स्थिति ठीक है। यहां भी सामान्य से 20% तक ज्यादा पानी गिर चुका है।

यहां स्थिति बेहतर स्थित

जिला सामान्य बारिश पानी गिरा
सिंगरौली 270 मिमी 391 मिमी
रायसेन 340 404
सीधी 326 352
रीवा 302 323

यहां स्थिति चिंता जनक

जिला सामान्य बारिश पानी गिरा
पन्ना 340 मिमी 108 मिमी
मुरैना 172 62
टीकमगढ़ 270 110
दमोह 210 134

एमपी के बड़े शहरों की स्थिति

जिला सामान्य बारिश पानी गिरा
भोपाल 306 मिमी 317 मिमी
जबलपुर 338 223
इंदौर 260 174
ग्वालियर 210 134

 

शिवराज सरकार के नाको तले हुआ राशन बटवारे में करोड़ों रुपये का घोटाला: दिग्विजय सिंह

नोट : मौसम विभाग वर्षा का आकलन % के अनुसार करता है। अर्थात सामान्य से 19% तक कम या ज्यादा बारिश को सामान्य माना जाता है। इससे ज्यादा होने पर ही उसे कम या ज्यादा होने पर मौसम विभाग इसे सामान्य से कम या ज्यादा में रखता है।

CBSE 10th क्लास के सैंपल पेपर जारी,ऐसे करें डाउनलोड Bhopal: आशा कार्यकर्ता से 7000 की रिश्वत लेते हुए बीसीएम गिरफ्तार Vaidik Watch: उज्जैन में लगेगी भारत की पहली वैदिक घड़ी, यहां होगी स्थापित मशहूर रेडियो अनाउंसर अमीन सयानी का आज वास्तव में निधन हो गया है। आज 91 वर्षीय अमीन सयानी का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है। इस बात की पुष्टि अनेक पुत्र राजिल सयानी ने की है। अब बोर्ड परीक्षाओं का आयोजन वर्ष में दो बार किया जाएगा।