बेकाबू-बेखौफ पुलिस वाले पीड़ित पूर्व फौजी को बेकसूर महिला रिश्तेदारों के साथ थाना पूरनपुर ले गए. वहां सिपाहियों की बैरक में ले जाकर चारपाई से बांधकर उसे लाठी डंडों से बेहोशी में पहुंचने तक पीटते रहे

Advertisement

रिश्तेदार महिलाओं को लेकर अंतिम संस्कार में शामिल होने जा रहे पूर्व फौजी के साथ सरेआम मारपीट करना दो दारोगाओं और उनके गुर्गे रहे हवलदार सिपाहियों को बहुत भारी पड़ा है. सरेआम सड़क पर मारपीट करने से जब बेकाबू पुलिस वालों का जी नहीं भरा तो उन्होंने पीड़ित की कार के कागजात पूरे होने के बाद भी 18500 रुपए का चालान थमा दिया. बिगड़ैल थानेदार-दारोगा और सिपाही-हवलदारों की हरकत का जब वीडियो वायरल हुआ तो, उनके बॉस रहे क्षेत्राधिकारी ने वीडियो को ही फर्जी करार दे डाला. यह अलग बात है कि जिला पुलिस कप्तान यानि पुलिस अधीक्षक ने पूरा मामला ही पलट दिया. अचानक बदले घटनाक्रम में एसपी ने अब दोनो आरोपी दारोगा और उनेके साथी हवलदार सिपाहियों के खिलाफ ही मुकदमा दर्ज करा दिया है, जबकि एक दारोगा को सस्पेंड कर दिया है. घटना 3 मई सुबह करीब साढ़े नौ बजे की है. उस वक्त पीड़ित पूर्व फौजी लखीमपुर खीरी में बहनोई के अंतिम संस्कार में शामिल होने जा रहे थे.

भोपाल में लेडी हेड कांस्टेबल की ईमानदारी, सड़क पर नोटों की गड्‌डी मिली तो थाने में जमा करवाई

घटना उत्तर प्रदेश के पीलीभीत जिले के पूरनपुर सब-डिवीजन की है. घटनाक्रम की पुष्टि खुद पीलीभीत के पुलिस अधीक्षक राठौर किरीट कुमार हरिभाई ने शनिवार को TV9 भारतवर्ष से मामले की पुष्टि की. घटनाक्रम के मुताबिक, “3 मई को थाना पूरनपुर में तैनात दारोगा राम नरेश सिंह मंडी समिति में परिसर में चल रही मतगणना स्थल के करीब पुलिस बैरियर पर तैनात था. उसके साथ सब इंस्पेक्टर रईस अहमद जोकि थाना माधोटांडा में तैनात है व पांच-6 हवलदार सिपाही भी मौजूद थे.

कोविशिल्ड के 50 लाख टीके ब्रिटेन नहीं भेजेगा भारत

पूर्व फौजी और अब मामले में शिकायतकर्ता बने रेशम सिंह ने पुलिस अफसरों को दिए बयान में बताया कि वे अल्टो कार से मौके पर पहुंचे थे. पुलिस वालों ने कार के कागजात मांगे. कार के कागजात पूरे थे. इसके बाद भी दारोगा और उनके साथ मौजूद पुलिसकर्मी बत्तमीजी करने लगे.” पूर्व फौजी ने भी पुलिसकर्मियों के द्वारा उसके साथ सरेआम सड़क पर बे-वजह किए जा रहे अभद्र व्यवहार पर आपत्ति जताई.

बेकाबू अपनों को बचाने में जुटा था CO पूरनपुर!

शिकायतकर्ता ने जब पुलिसकर्मियों के अनुचित व्यवहार का विरोध किया, तो बेकाबू थानेदार और उनके साथ मौजूद हवलदार सिपाही अकेले फौजी की पिटाई करने लगे. इतना ही नहीं पुलिस अधीक्षक पीलीभीत को दिए शिकायती पत्र में पीड़ित ने आरोप लगाया कि अपनी पर उतरे दारोगाओं ने कार के कागजात पूरे होने के बाद भी जबरदस्ती 18 हजार 500 जैसी मोटी रकम का जुर्माना चालान काट कर पीड़ित पर डाल दिया, जोकि कानूनन सरासर गलत था. इतना ही नहीं पूरी घटना का किसी प्रत्यक्षदर्शी ने वीडियो क्लिप भी बना ली और उसे जिले में वायरल कर दिया, जिसे देखकर जिला पुलिस अफसरों की खासी किरकिरी होनी शुरु हो गई.

मध्यप्रदेश में इन हॉस्पिटलों की निरस्त हुई मान्यता, FIR दर्जFormer Army Man Thrashed 123

आमजनों ने दारोगाओं की इस बेहूदगी के लिए पीलीभीत पुलिस को सोशल मीडिया प्लेटफार्म्स पर कोसना शुरू कर दिया. मामला बढ़ता देख जब पीलीभीत जिला पुलिस अधीक्षक ने पूरनपुर सब डिवीजन के क्षेत्राधिकारी को तलब किया, तो उन्होंने भी मामले में फंसे और वायरल मोबाइल क्लिप में बेकसूर फौजी पर कोहराम मचाते दिखाई दे रहे मातहतों का वीडियो ही कथित रूप से फर्जी बता दिया.

मध्य प्रदेश के रीवा में पुलिस का अमानवीय चेहरा, सब्जी बेचने जा रहे किसान की टोकरी में मारी लात, मोके पर पुलिस अधीक्षक भी थे मौजूद

पुलिस वाले थे जान लेने पर उतारू

इस पर पूरे मामले पर खुद पुलिस अधीक्षक ने ही संज्ञान ले लिया, जिसमें पीड़ित से पूरी सच्चाई जानकर पुलिस अधीक्षक ने जांच पूरनुपुर क्षेत्राधिकारी के हवाले कर दी. इसके बाद फिर विरोध के स्वर गूंजने लगे. लोगों की मांग थी कि जो पूरनपुर क्षेत्राधिकारी असली वायरल वीडियो को ही फर्जी बता रहा है, वो सही सही जांच क्यों करेगा? शनिवार को TV9 भारतवर्ष से बातचीत में एसपी पीलीभीत ने कहा, “जांच पूरनपुर क्षेत्राधिकारी से ले ली गयी है. मैंने अब जांच क्षेत्राधिकारी नगर पीलीभीत को सौंपी है.

आरोपी पुलिस कर्मियों के खिलाफ न्यायोचित धाराओं में मुकदमा दर्ज करा दिया गया है. आरोपी सब इंस्पेक्टर राम नरेश को सस्पेंड भी कर दिया है.” TV9 के पास मौजूद एफआईआर के मुताबिक, बेकाबू-बेखौफ पुलिस वाले पीड़ित पूर्व फौजी को बेकसूर महिला रिश्तेदारों के साथ थाना पूरनपुर ले गए. वहां सिपाहियों की बैरक में ले जाकर चारपाई से बांधकर उसे लाठी डंडों से बेहोशी में पहुंचने तक पीटते रहे.

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply