गंगा घाट पर लाशों का अंबार: बिहार के बक्सर में 24 घंटे जल रहीं चिताएं; कई शव सीधे नदी में बहाए जा रहे

    Share this News

    कोरोना संकट के बीच बिहार के बक्सर (Baxur) जिले में इंसानियत को शर्मशार करने वाली तस्वीर सामने आई है. सोमवार को यहां के चरित्रवन में शवदाह की जगह नहीं बची। बताया जा रहा है कि गांवों में पिछले एक-डेढ़ महीने से मौतें अचानक बढ़ गई हैं। मरने वाले सभी खांसी-बुखार से पीड़ित थे। कोरोना काल में बक्सर जिले के चौसा के पास स्थित महादेव घाट की तस्वीरों ने उस समय विचलित कर दिया, जब लाशों के अम्बार ने गंगा में स्थित घाट को ढक दिया. चौसा श्मशान घाट पर आने वाले अधिकतर शवों को गंगा में डाल दिया जा रहा है। इनमें से सैकड़ों शव किनारे पर सड़ रहे हैं।

    शादी में ‘लिट्टी’ को लेकर चली गोली, एक की मौत-3 घायल

    चरित्रवन और चौसा श्मशान घाट पर दिन-रात चिताएं जल रही हैं। कब्रिस्तानों में भी भीड़ लगी रहती है। पहले जहां चौसा श्मशान घाट पर प्रतिदिन दो से पांच चिताएं जलती थीं, वहीं अब 40 से 50 चिताएं जलाई जा रही हैं। बक्सर में यह आंकड़ा औसतन 90 है।

    मध्‍यप्रदेश: ग्लूकोज और नमक मिलाकर बना रहे थे नकली रेमडेसिविर, आरोपी गिरफ्तार

    7 शव जलाए, 16 को गंगा में प्रवाहित किया
    चरित्रवन श्मशान घाट पर एक बार में 10 से अधिक शवदाह हो रहे हैं। यहां दिन-रात चिताएं जल रही हैं। चौसा में भी यही हाल हैं। रविवार को बक्सर में 76 शव सरकारी आंकड़ों में दर्ज हुए, जबकि 100 से अधिक दाह-संस्कार हुए। रोजाना 20 से अधिक लोग शमशान घाट में रजिस्ट्रेशन भी नहीं कराते हैं। चौसा में भी 25 शवों का अंतिम संस्कार किया गया, जिसमें सात को जलाया गया तो वहीं 16 शवों का नदी में बहा दिया गया।

    लॉकडाउन में किन्नरों का हंगामा, जान बचाकर भागे सरकारी अधिकारी

    रोक लगाने के दिए हैं निर्देश: CO
    चौसा CO नवलकांत ने बताया कि उन्होंने SDO के दिशा-निर्देश पर रविवार को श्मशान घाट का जायजा लिया। रात में शव को दाह संस्कार करने में दिक्कत न हो उसके लिए जनरेटर लाइट की व्यवस्था की गई है। गंदगी को साफ करने के लिए दो लोगों को रखा गया है। साथ ही वहां पर दो चौकीदार और एक सलाहकार को नियुक्त किया गया है। वे दाह संस्कार करने वालों की डिटेल भी नोट कर रहे हैं।