कोरोना वायरस का खतरा हर रोज बढ़ता जा रहा है. देश में अब तक 4400 से ज्यादा कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या है. वहीं, 110 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है. केंद्र सरकार कोरोना महामारी से निपटने के लिए लगातार प्रयास कर रही है. सरकार ने कहा है कि कोरोना से निपटने के लिए सिस्टम को 3 भागों में बांटा गया है.

Advertisement

14 अप्रैल से आगे जारी रह सकता है लॉकडाउन, केंद्र सरकार कर रही विचार

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने मंगलवार को कहा कि पहले स्तर पर केयर सेंटर हैं, जहां नॉर्मल मरीजों को रखा जाएगा. इसके बाद हेल्थ सेंटर जहां ऑक्सीजन की जरूरत वाले मरीजों को रखा जाएगा. तीसरे स्तर पर कोविड हॉस्पिटल, जहां क्रिटिकल मरीजों का इलाज होगा.

दो महीने में 1.44 लाख करोड़ रुपये घट गई मुकेश अंबानी की संपत्ति, टॉप 100 से अडानी बाहर

लव अग्रवाल ने कहा कि भारतीय रेल ने 2500 कोच में 40,000 आइसोलेशन बेड बना दिए हैं. वे रोज 375 आइसोलेशन बेड बना रहे हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि अब तक की रिपोर्ट के मुताबिक देश में कोरोना के 4421 केस आए हैं. पिछले 24 घंटे में 354 नए केस मिले हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि एक स्टडी आई है, जिसमें कहा गया है एक आदमी 30 दिन में 406 लोगों को इन्फेक्ट कर सकता है. अगर हम लॉकडाउन कर दें तो एक व्यक्ति केवल 2.5 को इन्फेक्ट कर सकता है, इसलिए लॉकडाउन का पालन करें. कई जगहों पर निर्देशों का सख्ती से पालन किया गया तो फायदा भी नजर आया है. जैसे कि नोएडा, भीलवाड़ा और पूर्वी दिल्ली.

J&K में घुसपैठ कर रहे आतंकियों का अंत..

लव अग्रवाल ने बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण के मद्देनजर दिल्ली, मुंबई, भीलवाड़ा, आगरा में छोटे-छोटे क्षेत्रों को चिन्हित कर उन्हें सील करने की रणनीति बनाई गई है.

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply