स्टार जैवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा आज फाइनल मुकाबला खेलेंगे. इस मैच का खेल प्रेमियों को तब से इंतजार है

जैवलिन थ्रो का फाइनल मुकाबला रोमांचक होने की पूरी उम्मीद है, क्योंकि क्वालिफिकेशन राउंड में नीरज चोपड़ा और अरशद नदीम ने जैसा प्रदर्शन किया, उससे ये तय है कि ये दोनों जैवलिन थ्रोअर मेडल के लिए पूरी ताकत झोंक देंगे.

Advertisement

टोक्यो ओलंपिक अपने अंतिम पड़ाव पर है. ‘खेलों के महाकुंभ’ का आज (7 अगस्त) 16वां दिन है. भारत के लिए आज का दिन अहम होने वाला है. स्टार जैवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा आज फाइनल मुकाबला खेलेंगे. इस मैच का खेल प्रेमियों को तब से इंतजार है, जब से उन्हें ये मालूम पड़ा कि पाकिस्तान के अरशद नदीम भी इस मुकाबले में उतरेंगे. फाइनल भारतीय समयानुसार शाम 4.30 बजे शुरू होगा

ये मुकाबला रोमांचक होने की पूरी उम्मीद है, क्योंकि क्वालिफिकेशन राउंड में नीरज चोपड़ा और अरशद नदीम ने जैसा प्रदर्शन किया, उससे ये तय है कि ये दोनों जैवलिन थ्रोअर मेडल के लिए पूरी ताकत झोंक देंगे.

23 साल के नीरज चोपड़ा ने पहले ही प्रयास में क्वालिफाई के लिए 83.50 मीटर की सीमा को पार करते हुए 86.65 मीटर भाला फेंका था. वह ग्रुप-ए में टॉप पर थे. वहीं, अरशद नदीम ने 85.16 मीटर के थ्रो के साथ फाइनल के लिए क्वालिफाई किया था. वह ग्रुप बी में तीसरे नंबर पर थे. दोनों ग्रुप को मिलाकर कुल 12 खिलाड़ी फाइनल के लिए क्वालिफाई किए हैं.

महिला हॉकी में भी टूटा गोल्ड का सपना, अब ब्रॉन्ज के लिए भिड़ेंगी बेटियां

नीरज चोपड़ा ऐसा करने वाले पहले भारतीय होंगे

ओलंपिक के इतिहास में अब तक कोई भी भारतीय एथलीट ट्रैक एंड फील्ड स्पर्धा में पदक नहीं जीत सका है. टोक्यो ओलंपिक में जैवलिन थ्रोअर (भाला फेंक) नीरज चोपड़ा इस सूखे को खत्म कर सकते हैं.

नीरज चोपड़ा से पदक जीतने की उम्मीद इसलिए भी बढ़ जाती है, क्योंकि रियो ओलंपिक में त्रिनिदाद एंड टोबैगो के केशोरन वाल्कॉट ने 85.38 मीटर जैवलिन थ्रो के साथ कांस्य पदक जीता था. ऐसे में नीरज चोपड़ा अगर अपने वर्तमान बेस्ट थ्रो (88.07 मीटर) को ही दोहरा दें, तो वह पोडियम फिनिश कर सकते हैं.

टोक्यो का सफर

नीरज चोपड़ा ने पिछले साल साउथ अफ्रीका में आयोजित हुए सेंट्रल नॉर्थ ईस्ट मीटिंग एथलेटिक्स चैम्पियनशिप के जरिए ओलंपिक का टिकट हासिल किया था. उन्होंने 87.86 मीटर जैवलिन थ्रो कर 85 मीटर के अनिवार्य क्वालिफिकेशन मार्क को पार कर यह उपलब्धि हासिल की.

टोक्यो में ब्रॉन्ज मेडल जीत पीवी सिंधु ने रचा इतिहास,सुशील कुमार कि बराबरी की

नीरज और अरशद के बीच रही है कड़ी टक्कर

अरशद नदीम नीरज चोपड़ा को अपना आदर्श बता चुके हैं. ओलंपिक की आधिकारिक वेबसाइट के प्लेयर प्रोफाइल सेक्शन में नदीम ने नीरज चोपड़ा को अपना हीरो बताया है. नदीम पहले पाकिस्तानी एथलीट हैं, जिन्होंने ओलंपिक में किसी भी ट्रैक और फील्ड इवेंट के फाइनल के लिए क्वालिफाई किया है.

इन दोनों थ्रोअर का पहले भी सामना हो चुका है, जहां दोनों के बीच कड़ी टक्कर देखने को मिली थी. नदीम ने 2016 में भारत में आयोजित दक्षिण एशियाई खेलों में कांस्य पदक जीता था. स्वर्ण पदक नीरज चोपड़ा के नाम रहा था. इसके बाद नदीम ने एशियाई खेलों में रजत पदक जीता, जहां चोपड़ा ने फिर से स्वर्ण पदक पर कब्जा किया था

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply