भारत की महिला बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु ने बीडब्ल्यूएफ विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप जीतने के साथ ही इतिहास रच दिया है। सिंधु ने महिला एकल के खिताबी मुकाबले में जापान की नोजोमी ओकुहारा को आसानी से हराकर स्वर्ण पदक अपने नाम किया है। सिंधु विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण जीतने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी है। सिंधु ने केवल 36 मिनट में लगातार दो गेम में ओकुहारा को 21-7 21-7 से हरा दिया। इसके साथ ही सिंधु ने इसमें 2017 में ओकुहारा के हाथों मिली हार का हिसाब भी बराबर कर लिया। यह उनका विश्व चैंपियनशिप में पहला स्वर्ण है1566737991-9348.jpg

Advertisement

जबकि कुल 5वां पदक है। सिंधु ने इससे पहले विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप में 2017 और 2018 में रजत और 2013 व 2014 में कांस्य पदक जीता था। भारतीय खिलाड़ी ने 16 मिनट तक चले पहले गेम में जबरदस्त शुरुआत की और लगातार 7 अंक लेते हुए जापानी खिलाड़ी पर 8-1 की बढ़त हासिल कर ली। इस दौरान ओकुहारा नेट पर नाकाम रहीं, जिसका लाभ भी सिंधु को मिला। सिंधु ने यहां दबाव बनाए रखा और जोरदार स्मैश लगाया, जिसका जापानी

यह भी पढ़े  कोहली के शतक के दम पर भारत ने किया क्लीन स्वीप, स्वतंत्रता दिवस पर देशवासियों को दिया जीत का तोहफा

खिलाड़ी के पास कोई जवाब नहीं था। पहले गेम में ब्रेक के समय उनकी बढ़त 11-2 हो गई। ब्रेक के बाद जब गेम शुरू हुआ तो जापानी शटलर ने वापसी का प्रयास किया पर वह सफल नहीं रहीं। लंबी-लंबी रैलियों के बीच सिंधु ने लगातार 5 अंक लेकर बढ़त 16-2 कर ली। यहां ओकुहारा को 2 अंक जरूर मिले, लेकिन उसमें सिंधु के आउट शॉट की भूमिका रही। इसके बाद भारतीय खिलाड़ी ने कोई मौका नहीं दिया और पहला गेम 21-7 से अपने नाम करते हुए 1-0 की बढ़त ले ली।pv_sindhu_1566738125
दूसरे दौर में भी सिंधु के खेल के सामने ओकुहारा टिक नहीं पायीं और 20 मिनट तक चले इस गेम में शुरुआत तो रोचक रही, लेकिन जल्द ही सिंधु ने बढ़त बनानी शुरू कर दी। देखते ही देखते उनकी बढ़त 11-4 हो गई। ब्रेक के बाद जब गेम शुरू हुआ तो सिंधु ने लगातार 5 पॉइंट लेकर

यह भी पढ़े  ईशांत ने अपनी सफलता का श्रेय इस गेंदबाज को दिया, उसी के टिप्स पर झटके 5 विकेट

बढ़त 16-4 कर ली। यहां ओकुहारा ने 3 पॉइंट लिए, लेकिन सिंधु ने यह गेम 21-7 से जीतते हुए खिताब अपने नाम कर लिया। इस जीत के साथ ही उन्होंने ओकुहारा के खिलाफ जीत हार का अंतर 8-8 से बराकर कर लिया है।

Switzerland Badminton
सिंधु ने इस बार अपने अभियान के दौरान जबरदस्त खेल दिखाते हुए सेमीफाइनल में चीन की यू फेइ को 21-7, 21-14 से हराया था। वह लगातार तीसरे साल इस टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचने में सफल रहीं। इसके साथ ही सिंधु ने इस खिलाड़ी के खिलाफ अपने रेकॉर्ड को 6-3 कर लिया। सिंधु ने क्वॉर्टर फाइनल में चीनी ताइपे की ताइ जू यिंग को हराकर इस टूर्नामेंट में अपना 5वां पदक पक्का किया था। सिंधु ने इस टूर्नमेंट के पिछले दो संस्करणों में रजत पदक जीते हैं। इससे पहले उन्होंने यहां में दो कांस्य पदक भी जीते हैं। उन्होंने विश्व की नंबर दो जू यिंग को 12-21, 23-21, 21-19 से हराया था। यह मुकाबला कुल 71 मिनट तक चला था। सिंधु ने तीसरे दौर के मुकाबले में अमेरिका की बेईवन झांग को हराया। विश्व की पांचवें नंबर की खिलाड़ी सिंधु ने गुरुवार को 9वीं सीड झांग को 21-14, 21-6 से हराया था। सिंधु ने 34 मिनट में यह मैच समाप्त किया। इस जीत के साथ सिंधु ने झांग के खिलाफ अपना करियर रिकॉर्ड 5-3 का कर लिया है।

@vicharodaya

यह भी पढ़े

ईशांत ने अपनी सफलता का श्रेय इस गेंदबाज को दिया, उसी के टिप्स पर झटके 5 विकेट

कोहली के शतक के दम पर भारत ने किया क्लीन स्वीप, स्वतंत्रता दिवस पर देशवासियों को दिया जीत का तोहफा

 

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply