Share this News

विशाखापट्टनम के रासायनिक कारखाने में गैस रिसाव से बड़ी दुर्घटना घटी है। जो सन् 1984 की भोपाल गैस त्रासदी की कड़वी यादों को ताजा कर देती है। इस तरह के कारखानों में बचाव प्रणाली होती है कि गैस रिसाव के समय पानी के फव्वारे चालू हो जाते हैं और हानि नियंत्रित हो जाती है। बचाव संयंत्र का प्रतिदिन निरीक्षण नहीं किया जाता और इस चूक से दुर्घटना घट जाती है। 12 मई से 15 रूट पर AC स्पेशल ट्रेनें चलेंगी, जानिए बुकिंग, किराया, गाइडलाइन और सब कुछ..


इसलिए फायर ब्रिगेड नियमित ड्रेस रिहर्सल करता है। शेक्सपियर का कथन याद आता है कि ‘ट्रेजडी ऑफ एरर्स, गॉड फॉर, द एनिमी लाइस विदिन द मैन’ अर्थात त्रासदी का कारण प्राय: मानवीय गफलत होती है, जिसके लिए ऊपर वाले को दोष देना अनुचित है। भोपाल गैस त्रासदी के समय कारखाने के मालिक को तत्कालीन मुख्यमंत्री के विभाग से सुरक्षित जगह भेज दिया गया था। व्यवस्थाएं हमेशा पूंजीवाद की सहायक रही हैं। जब विदेशी कंपनी ने मुआवजा देना स्वीकार किया तब रिश्वत लेकर कम मुआवजे के दस्तावेज बनाए गए। विदेशियों को हैरानी थी कि इस तरह के प्रकरण में भी मनुष्य की कीमत कम आंकी जाती है? https://youtu.be/5Vh_Q5AA63I


भोपाल में अवाम नीचे नगर में रहता है। मंत्री और अफसर ऊंचे नगर में रहते हैं। गैस रिसाव निचले स्तर पर रहने वालों के लिए घातक सिद्ध हुआ। बिपाशा बसु अभिनीत मधुर भंडारकर की फिल्म ‘कॉर्पोरेट’ में दिखाया गया है कि औद्योगिक घराने जासूस तंत्र भी रचते हैं। एक प्रोडक्ट को बाजार में लाने से पहले ही प्रतिद्वंद्वी उद्योग उसी तरह का माल बाजार में भेज देता है। फिल्म ‘कॉर्पोरेट’ में बिपाशा बसु अभिनीत पात्र प्रतिद्वंद्वी के अफसर को शराब पिलाकर, शबाब की झलक दिखाकर उसके कम्प्यूटर का डाटा चोरी कर लेती है। फिल्म के क्लाइमैक्स में कंपनी दावा जीत जाती है कि उनका प्रोडक्ट डिजाइन चोरी कर लिया गया है।

बिपाशा बसु के मालिक सारे कांड का भांडा बिपाशा बसु के सिर पर फोड़ देते हैं और स्वयं बच निकल जाते हैं। ज्ञातव्य है कि कुंदन शाह की ‘जाने भी दो यारों’ में भी ऐसा ही होता है।
इस घटना में एक पेंच यह भी था कि बिपाशा बसु और अन्य कंपनी का अफसर कभी एक-दूसरे से प्रेम करते थे। प्रेमी अपनी भूतपूर्व प्रेमिका के खिलाफ गवाही देता है। दिलीप कुमार ने भी निर्माता का पक्ष लेते हुए मधुबाला के खिलाफ गवाही दी थी। जाने क्यों हमारे बहुबली सुपर सितारे हमेशा व्यवस्था के पक्ष में खड़े रहते हैं, जबकि उनकी स्क्रीन छवि भ्रष्ट व्यवस्था को तोड़ने वाले नायक की रहती है। यह सिलसिला आज भी जारी है। https://www.instagram.com/p/CAAxEKblBo5/?igshid=1r2jku9ib6kuh