सिंगला ने कहा कि मुख्यमंत्री ने अपनी सहमति प्रदान करने के साथ सभी स्कूलों के प्रबंधन को परिसर में कोविड-19 दिशा निर्देशों के सख्ती से पालन के निर्देश दिए हैं। छात्रों को स्‍कूल के भीतर सभी जगहों पर सोशल डिस्‍टेंसिंग के नियमों का पालन करना होगा।

Advertisement

पंजाब सरकार ने बुधवार को कक्षा पांच से 12वीं तक के छात्रों के लिये सभी स्कूलों को 7 जनवरी से खोलने का फैसला लिया। राज्य के शिक्षा मंत्री विजय इंदर सिंगला ने कहा कि अभिभावकों की मांग पर राज्य सरकार ने सभी सरकारी, अर्धसरकारी और निजी स्कूलों को 7 जनवरी से खोलने का फैसला लिया है। यहां जारी एक बयान में सिंगला ने कहा कि स्कूल खुलने का समय सुबह 10 बजे से 3 बजे तक रहेगा। मंत्री ने कहा कि सिर्फ कक्षा 5 से 12 तक के छात्रों को स्कूलों में आकर पढ़ाई की अनुमति होगी।

एक बार फिर मानवता हुई शर्मसार, उत्तर प्रदेश के बदायूं में सामुहिक दुष्कर्म के बाद हत्या

सिंगला ने कहा कि मुख्यमंत्री ने अपनी सहमति प्रदान करने के साथ सभी स्कूलों के प्रबंधन को परिसर में कोविड-19 दिशा निर्देशों के सख्ती से पालन के निर्देश दिए हैं। छात्रों को स्‍कूल के भीतर सभी जगहों पर सोशल डिस्‍टेंसिंग के नियमों का पालन करना होगा।

करना होगा सोशल डिस्‍टेंसिंग के नियमों का पालन

नकली नोट छापने वाले गिरोह का हुआ भंडाफोड़, घर पर ही छापते थे नोट

कक्षा में बैठने की व्यवस्था भी डिस्‍टेंसिंग के नियमों के साथ ही किया जाएगा। छात्रों के अलावा टीचर्स और स्‍टाफ को भी सोशल डिस्‍टेंसिंग के नियमों का पालन करना होगा। बता दें कि पंजाब पहला ऐसा राज्य बन गया है, जो पांचवी से 12वीं कक्षा तक के स्कूल खोलने का निर्णय लिया है।

इसके अलावा अन्‍य राज्‍यों में भी स्‍कूल अब दोबारा खोले जाने लगे हैं। गुजरात में 10वीं और 12वीं के छात्रों के लिए सोमवार 11 जनवरी से स्‍कूल खुलने जा रहे हैं। स्‍कूलों में एंट्री के लिए फेस मास्‍क, सोशल डिस्‍टेंसिंग तथा पैरेंटल परमिशन लेटर की अनिवार्यता है।

इंदौर में डॉक्टर तिवारी की स्मृति में हुआ ग्यारह रचनाकारों का सम्मान

गुजरात के शिक्षा मंत्री शिक्षा मंत्री भूपेंद्र सिंह चुडासमा ने घोषणा की है कि राज्य में कोविड-19 से संबंधित दिशानिर्देशों का पालन कराते हुए कक्षा 10वीं और 12वीं कक्षा के छात्रों के लिए 11 जनवरी से स्कूलों को फिर से खोला जाएगा। बता दें कि इससे पहले गुजरात में 23 नवंबर से स्कूलों को फिर से खोले जाने की घोषणा की गई थी लेकिन, सरकार ने महामारी की स्थिति को देखते हुए अपने इस फैसले को निरस्त कर दिया था।

माता मंदिर नगर निगम मुख्यालय के सामने विपक्ष के नेता पीसी शर्मा दे रहे धरना ,जाने क्या है वजह

 

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply