नई दिल्ली. भारतीय टेनिस स्टार सानिया मिर्जा 33 साल की हो चुकी हैं। सानिया ने सिर्फ 6 साल की उम्र में टेनिस खेलना शुरू कर दिया था और 14 साल की उम्र में वह प्रोफेशनल खिलाड़ी बन चुकी थी। करियर की शुरुआत में ही सानिया से कहा गया था कि टेनिस खेलना बंद कर दो वरना कोई तुमसे शादी करेगा। सानिया ने अपने करियर में कई उपलब्धियां हासिल की हैं सानिया लगातार 10 सालों तक भारत की नंबर 1 टेनिस खिलाड़ी रही थी। सानिया ने साल 2003 में विबल्डन डबल्स का खिता जीता था। इस शानदार खेल के लिए उन्हें अर्जुन अवार्ड भी मिला था।

जिनपिंग से मिले मोदी, सीमा विवाद पर हुई बातचीत..

टेनिस खेलना छोड़ दो वरना शादी नहीं होगी
सानिया को करियर की शुरुआत में ही समाज की छोटी सोच का सामना करना पड़ा था। सानिया से कहा गया था कि तुम टेनिस खेलना छोड़ दो वरना तुम्हारा रंग काला पड़ जाएगा और कोई भी लड़का तुमसे शादी नहीं करेगा। इस घटना को याद करके सानिया कहती हैं कि हमारे समाज को अपनी सोच सुधारने की जरूरत हे तभी देश की लड़कियां खेल में अच्छा प्रदर्शन कर पाएंगी।

2005 में जारी हुआ था फतवा
मुस्लिम परिवार से होने के कारण साल 2005 में एक मुस्लिम समुदाय ने सानिया के खेलने के खिलाफ फतवा तक जारी कर दिया था इस समुदाय ने टेनिस खेलते समय सानिया के कपड़े को लेकर आपत्ति जताई थी। इस बात पर भी काफी बवाल हुआ था और फतवा जारी करने वाले समुदाय की खासी आलोचना भी हुई थी।

राहुल द्रविड़ को BCCI के एथिक्स ऑफिसर ने दी क्लीन चिट..

शोएब से शादी की वजह से झेली आलोचनाएं
‘पद्म श्री’ पुरस्कार से सम्मानित सानिया को पाकिस्तानी क्रिकेटर से शादी करने के कारण अक्सर आलोचना का सामना करना पड़ता है। सानिया को आलोचकों ने कई बार तो उनकी राष्ट्रीयता तक पर सवाल उठाए हैं। सिर्फ सानिया ही उनके पति को भी मैच के दौरान कई बार दर्शकों की हूटिंग का सामना करना पड़ता है। हालांकि सानिया ने हमेशा ही ऐसी चुनौतियों का डटकर सामना किया है और देश को गौरवान्वित महसूस कराया है।

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply