साध्वी प्रज्ञा ने बताया कोरोना का रामबाण इलाज “गो मूत्र पीने से नहीं होगा कोरोना”

साध्वी प्रज्ञा ने बताया कोरोना का रामबाण इलाज “गो मूत्र पीने से नहीं होगा कोरोना”

Share this News

भोपाल से भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने गो मूत्र से कोरोना संक्रमण रोकने का दावा किया है। उन्होंने कहा कि वे खुद प्रतिदिन गो मूत्र का अर्क लेती हैं। इसी कारण अब तक इस संक्रमण से बची रहीं और इसके चलते उन्हें आगे भी संक्रमण नहीं होगा। यह बात प्रज्ञा ने रविवार को भोपाल के संत नगर में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान कही।

MP: कांग्रेस के पूर्व मंत्री के बंगले में महिला ने की आत्महत्या; छोड़ा सुसाइड नोट, भोपाल में जल्द ही करने वाले थे शादी

सांसद ने कहा कि देसी गाय के गो मूत्र का अर्क अगर हम लेते हैं, तो हमारे फेफड़ों का संक्रमण खत्म होता है। मैं बहुत तकलीफ में हूं, लेकिन प्रतिदिन गौ-मूत्र अर्क लेती हूं, इसलिए अभी मुझे कोरोना के लिए कोई औषधि नहीं लेनी पड़ रही हूं। न ही कोरोना ग्रस्त हूं और न ही ईश्वर करेगा, क्योंकि मैं उस औषधि का उपयोग कर रही हूं। हां मैं प्रार्थना करके लेती हूं- आप हमारे अमृत का स्वरूप हैं, हम ग्रहण कर रहे हैं। मेरे जीवन की रक्षा करें। मेरा जीवन राष्ट्र के लिए है। गाय का गो मूत्र जीवन दायिनी होता है।

कोरोना के इलाज में सख्त हुए शिवराज कहा “कोई भी अस्पताल निःशुल्क इलाज से नहीं कर सकता है मना”

साध्वी ने बताई गो मूत्र सेवन की विधि

सिर्फ देसी गाय का ही गो मूत्र उपयोगी होता है। इसमें भी जंगल में चरने वाली गाय का मूत्र ही औषधि स्वरूप होता है। मूत्र को साफ कपड़े से 16 बार छानना होता है। यह एसिड की तरह काम करता है। इससे पेट पूरी तरह साफ हो जाता है। पेट से ही सभी तरह की बीमारियां होती हैं।

https://www.instagram.com/tv/COm_q36BKad/?utm_source=ig_web_copy_link

सावधान..! कहीं आप गरीब हैं तो नहीं..? देखें कैसे भोपाल में पैसे में बिक रही ज़िंदगी..!

CBSE 10th क्लास के सैंपल पेपर जारी,ऐसे करें डाउनलोड Bhopal: आशा कार्यकर्ता से 7000 की रिश्वत लेते हुए बीसीएम गिरफ्तार Vaidik Watch: उज्जैन में लगेगी भारत की पहली वैदिक घड़ी, यहां होगी स्थापित मशहूर रेडियो अनाउंसर अमीन सयानी का आज वास्तव में निधन हो गया है। आज 91 वर्षीय अमीन सयानी का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है। इस बात की पुष्टि अनेक पुत्र राजिल सयानी ने की है। अब बोर्ड परीक्षाओं का आयोजन वर्ष में दो बार किया जाएगा।