उत्तराखंड के उधम सिंह नगर में कोरोना के 4 नए मामले सामने आने के बाद हड़कंप मच गया. चारों लोग बाहर से आए थे, जिसमें 3 का टेस्ट जिला अस्पताल रुद्रपुर में किया गया और एक मरीज की खटीमा में जांच हुई. इससे पहले जिले में 9 कोरोना पॉजिटिव मरीज थे, जो अब बढ़कर 13 हो गए हैं. बताया जा रहा है कि इनमें से चार ठीक हो गए हैं, बाकी का इलाज चल रहा है.

Advertisement

PM Cares Fund का ऑडिट सुनिश्चित करें पीएम नरेंद्र मोदी- राहुल गांधी

कोरोना नोडल अधिकारी अविनाश खन्ना के मुताबिक, कोरोना संक्रमित मरीजों में दो गदरपुर, एक अल्मोड़ा और एक खटीमा का है. गदरपुर के रहने वाले दोनों मरीज महाराष्ट्र से ऑटोरिक्शा में सवार होकर सभी राज्यों की सील सीमा को लांघते हुए उत्तराखंड के उधम सिंह नगर पहुंचे थे. वहीं, अल्मोड़ा निवासी कोरोना मरीज हरियाणा से और खटीमा निवासी मरीज गुजरात से आए थे.

17 मई के बाद भी बढ़ेगा लॉकडाउन? पढ़ें-डॉक्टर हर्षवर्धन का जवाब

वहीं, दो कोरोना मरीजों के मामले में जिला अस्पताल के चिकित्सकों की बड़ी लापरवाही सामने आई है. चिकित्सकों की लापरवाही के चलते क्षेत्र में कोरोना का संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ गया. गदरपुर के पास स्थित महतोष मोड़ के दो मरीज जिला अस्पताल में आइसोलेट थे और उनका सैंपल टेस्ट के लिए गया हुआ था. लेकिन चिकित्सकों ने उनकी रिपोर्ट आने से पहले ही उन्हें डिस्चार्ज कर दिया, जबकि दोनों मरीजों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है.

खंगाली जा रही है ट्रैवल हिस्ट्री

दोनों मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद चिकित्सकों में हड़कंप मच गया और आनन-फानन में उन्हें सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज भेजा गया. दोनों मरीजों के रिश्तेदारों ने चिकित्सकों की इस लापरवाही का एक वीडियो वायरल कर कार्रवाई की मांग की है. वहीं, अपर सचिव स्वास्थ्य युगल किशोर पंत ने कहा कि दोनों मरीजों की ट्रैवल हिस्ट्री खंगाली जा रही है.

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply