हाईवे पर ट्रेलर ने रौंदा
हाईवे पर ट्रेलर ने रौंदा

10वीं की परीक्षा देकर चचेरे भाई के साथ बाइक से लौट रहीं दो बहनें को हाईवे पर ट्रेलर ने रौंदा
Advertisement

मध्यप्रदेश के रीवा जिले में शाहपुर थाना के अंतर्गत खटखरी स्थित हाईवे में एक अनियंत्रित ट्रेलर ने बाइक सवार तीन छात्रों को रौंद दिया। इस हादसे में दो चचेरी बहनों समेत एक भाई की मौके पर मौत हो गई है। दुर्घटना में तीनों छात्रों के सिर कुचल कर विखर गए। ऐसे में तीनों छात्रों की पहचान कर पाना मुश्किल था। बीच हाईवे में लाश पड़ी होने के कारण जाम लग गया। इधर हादसे की सूचना के बाद पहुंचे परिजनों ने चक्काजाम कर दिया है।

पुलिस मुठभेड़ में मारा गया 1 लाख का इनामी बदमाश, 2 पुलिसकर्मी हुए घायल; AK-47, पिस्टल समेत भारी मात्रा में कारतूस बरामद

बड़ी दुर्घटना की जानकारी मिलते ही शाहपुर पुलिस घटनास्थल के लिए रवाना हुई। वहीं एसडीओपी सहित अन्य थानों का बल भी पहुंच गया। काफी समझाइश के बाद दो बहनों व बाइक चला रहे एक भाई के शव को पीएम के लिए मऊगंज अस्पताल भिजवाया गया है। जहां चिकित्सकों ने पीएम के उपरांत डेड बॉडी परिजनों को सौंप दी है। इधर शाहपुर पुलिस ने आरोपी ट्रेलर को जब्त कर थाने में खड़ा कराया है।

तीन घंटे जाम रहा हाईवे
रीवा-हनुमना फोरलेन हाईवे में बड़े हादसे की सूचना के बाद पुलिस और प्रशासन के जिम्मेदारों को सूचना दी गई। जानकारी के बाद हनुमना एसडीएम अखिलेश सिंह, मऊगंज एसडीओपी शैलेन्द्र शर्मा सहित शाहपुर, मऊगंज, हनुमना थाने का पुलिस बल मौके पर पहुंचकर मोर्चा संभाला। इसके बाद परिजनों को हर संभव मदद का आश्वासन देने के तीन घंटे बाद जाम खुलवाया गया।

मध्यप्रदेश में अब कोरोना पॉजिटिव छात्र दे सकेगें पेपर,बस करना होगा यह..

दो घायल छात्राएं मऊगंज में भर्ती
पुलिस ने बताया कि बाइक हादसे के समय साइकिल सवार अंतिमा पाण्डेय पुत्र गिरीश पाण्डेय (18) और प्रिया साकेत पुत्र रामलोचन साकेत (18) दोनों निवासी हर्डिहाई घायल हो गई थी। जिनको पुलिस की मदद से मऊगंज अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घायल छात्राओं ने ही मृतकों के बारे में पूरी कहानी बताई है। क्योंकि हादसे में तीनों के सिर गायब है।

राजनांदनी पब्लिक स्कूल देवरा के है पढ़ने वाले छात्र
मृतकों के परिजनों ने बताया कि ताज बाबू, सुममू अंसारी और रीनू अंसारी राजनांदनी पब्लिक स्कूल देवरा के छात्र है। कहा कि माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा आयोजित की जा रही 10वीं बोर्ड परीक्षा का सेंटर सभी का हनुमना था। ऐसे में दो दर्जन से ज्यादा छात्र और छात्राएं हाईवे के रास्ते लौट रहे थे। वहीं धरमपुरा निवासी चचेरे भाई के साथ बाइक में सवार होकर दो बहनें घर लौट रही थीं। लेकिन लेकिन जीवन का आखिरी इम्तिहान साबित हुआ।

हमसे व्हाट्सएप ग्रुप पर जुड़े

खेल की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

रोजगार की खबरें पढ़ने के लिए करें क्लिक

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply