मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमण बढ़ रहा है। ऐसे में कोरोना वायरस के बढ़ते आंकड़ों ने सरकार की चिंता बढ़ा दी है। अब इन सभी के बीच प्रदेश के अस्पतालों में लापरवाही की खबरें भी लगातार सामने आ रही हैं। बता दें कि ग्वालियर में तीन हॉस्पिटल की मान्यता कोविड में लापरवाही पर निरस्त की गई है।

Advertisement

मध्य प्रदेश के रीवा में पुलिस का अमानवीय चेहरा, सब्जी बेचने जा रहे किसान की टोकरी में मारी लात, मोके पर पुलिस अधीक्षक भी थे मौजूद

मिली जानकारी के मुताबिक ग्वालियर में कोविड के दौर में नियमों पालन नहीं करने पर तीन अस्पतालों की मान्यता निरस्त कर दी गई है, बता दें कि श्रद्धा नर्सिंग होम, मैक्स केयर व लोटस हॉस्पिटल के लाइसेंस निरस्त किए गए हैं, यहां कोविड पेशेंट बढ़ने पर घोर लापरवाही बरती गई है।

जबलपुर में 62 हज़ार रुपए की शराब जप्त, अल्टो कार में हो रही थी अंग्रेजी और देशी शराब की तस्करी

इस हॉस्पिटल पर FIR के दिए गए निर्देश :

वही इस संबंध में RTI एक्टिविस्ट ने शिकायत की थी कि हॉस्पिटल की डॉक्टर दिव्या जो बीडीएस हैं उनके द्वारा अनाधिकृत रूप से रेमडेसिविर इंजेक्शन को प्रिस्काइब किया गया, इस संबंध में प्रमाण भी प्रस्तुत किए गए थे। इस मामले की शिकायत कलेक्टर व सीएमएचओ को की गई थी, जिसके बाद एक अस्पताल मां शीतला मल्टी स्पेशियलिटी हॉस्पिटल पर FIR दर्ज की गई है।

MP में 11,708 नए केस, 84 मौतें: 20 दिन बाद 11 हजार से कम पॉजिटिव मिले; 4,815 मरीज हुए ठीक

कलेक्टर ग्वालियर ने कोरोना कर्फ्यू को 15 मई तक बढ़ाया :

एक तरफ जहां कोरोना संक्रमण की चेन को ब्रेक करने के लिए शासन से लेकर प्रशासन तक अपने स्तर पर काफी प्रयास किए हैं, वही तमाम प्रयासों के बाद भी कोरोना की रफ्तार कम होती नजर नहीं आ रही है, हर दिन तेजी से मामले सामने आ रहे है, वही ग्वालियर जिले की बात करें तो अब शहर से ज्यादा देहात में कोरोना संक्रमण परेशानी बन हुआ है। बढ़ते मामलों को देखते हुए कलेक्टर ग्वालियर ने कोरोना कर्फ्यू को 15 मई तक बढ़ा दिया गया है।

तेज धमाके के साथ बैट्री बनाने वाली फैक्ट्री में लगी भीषण आग

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply