ब्लड शुगर और मोटापा कम करने में मदद करता है कच्चा पनीर, जानिए एक दिन में कितना पनीर खाना सेहतमंद

    Share this News

    सुबह का नाश्ता हमारे लिए बेहद जरूरी होता है। क्योंकि नाश्ते के बाद ही हम अपने रोज के काम काज में लगते हैं। अगर नाश्ता बहुत ज्यादा हो जाता है तो हमें काम के समय नींद आने लगती है और कम रहने पर जल्दी ही भूख लग जाती है। इससे भी काम में मन नहीं लगता है। भारत में आमतौर पर नाश्ते में पराठे, पोहा और इडली जैसी चीजें खाई जाती हैं। इनकी बजाय आप नाश्ते में कच्चा पनीर खा सकते हैं। यह कई मायने में सेहत के लिए फायदेमंद है और लंबे समय तक पेट में रहता है। इस वजह से जल्दी भूख भी नहीं लगती है। पनीर खाने से शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। इसमें डाइट्री फाइबर होता है, जो भोजन को पचाने में मदद करता है। इससे बावसीर, कोलेस्ट्रोल, कब्ज और शुगर लेवल बढ़ने जैसी समस्याएं नहीं होती हैं।

    जब घर वाले ही हो जाएं हैवान..,युवती को उसके ही पिता और भाईयों ने पेड़ से बांध किया अधमरा

    कितना पनीर खाना बेहतर

    अगर आपके शरीर में खून की कमी हो गई है और आपको कमजोरी के साथ-साथ थकान की शिकायत हो तो आपको रोज सुबह 100 ग्राम कच्चे पनीर का सेवन करना चाहिए। पनीर में कैल्शियम और फॉस्फोरस भरपूर मात्रा में होता है। इससे हड्डियां मजबूत होती हैं। रोज कच्चे पनीर का सेवन करने से हड्डियों के दर्द में राहत मिलती है। पनीर में प्रोटीन के साथ-साथ लीनोलाइक एसिड भी पाया जाता है। इससे शरीर में फैट बर्निंग की प्रक्रिया तेज होती है और वजन कम करना आसान हो जाता है।

    कोलेस्ट्रॉल कम करने में भी सहायक है पनीर

    पनीर का सेवन धमनियों में होने वाली रूकावट को भी रोकता है, जिससे दिल की कई बीमारियों का खतरा कम हो जाता है। साथ ही इससे शरीर का कोलेस्ट्रॉल लेवल भी कंट्रोल में रहता है। इसमें कार्बोहाइड्रेट की मात्रा कम होती है इसलिए डायबिटीज से पीड़ित लोगों को रोज कच्चा पनीर खाना चाहिए। कच्चे पनीर में ओमेगा-3 फैटी एसिड पाया जाता है। इस वजह से रोजाना इसके सेवन से शुगर भी कंट्रोल में रहने लगती है।

    डिप्रेशन से भी बचाता है कच्चा पनीर

    पनीर विटामिन ए का अच्छा स्रोत है। इसकी वजह से आपकी इम्यूनिटी मजबूत होती है। मजबूत इम्यून सिस्टम आपको हर तरह की बीमारी से बचाता है। खासकर कोरोनाकाल में लोगों को इम्यूनिटी का महत्व समझ में आया है। इसके अलावा पनीर से पाचन संबन्धी समस्याएं, तनाव, और डिप्रेशन जैसी परेशानियां भी दूर होती हैं।