अगर आप रेलवे या अन्य किसी भी केंद्र सरकार के विभाग में कार्यरत हैं, तो यह खबर आपसे जुड़ी हुई है। ऐसा इसलिए क्योंकि केंद्र सरकार ने हाल ही कर्मचारियों की पेंशन से जुड़े मुद्दे पर एक अहम फैसला लिया है जिससे पेंशन स्कीम से वंचित रेल कर्मचारियों और अधिकारियों को फायदा होगा।

Advertisement

मामला ऐसे कर्मचारियों का है जिनकी नियुक्ति तो एक जनवरी 2004 के बाद हुई थी, लेकिन उनके चयन की प्रकिया से जुड़े सभी कार्य एक जनवरी 2004 से पूर्व ही पूरे कर लिए गए थे। अब ऐसे सभी कर्मचारियों को पुरानी पेंशन स्कीम में पंजीकृत कर लिया जाएगा। यानी इन्हें ओल्ड पेंशन स्कीम (ओपीएस) का फायदा मिल सकेगा। गौरतलब है कि इस अवधि में रेल मंत्रालय ने बड़ी संख्या में भर्तियां की थीं। विभिन्न जोन में देशभर में करीब 2.50 लाख नियुक्तियां इस दौरान की गई थीं। https://youtu.be/yAfUGDuVKao

न्यायालय के एक निर्णय की अनुपालना में रेलवे बोर्ड ने यह निर्णय लिया है। इसके तहत जिन कर्मचारियों का पैनल एक जनवरी 2004 को फाइनल हो चुका था, उन्हें पुरानी पेंशन स्कीम के लिए पंजीकृत किया जाएगा। इस निर्णय से यह माना जा रहा है कि रेलवे प्रशासन ने नियुक्ति देने में देरी की थी, जिसकी वजह से कर्मचारी पुरानी पेंशन स्कीम के फायदे से वंचित चल रहे थे।

नीतू कपूर-रणबीर कपूर ने रखी ऋषि कपूर की प्रेयर मीट, शेयर की तस्वीर

एनडब्ल्यूआरईयू के मंडल मंत्री मुकेश चतुर्वेदी और जोनल संयुक्ति सचिव सुभाष पारीक ने बताया कि ऑल इंडिया रेलवे मेंस फेडरेशन के महामंत्री एसजी मिश्रा व सहायक महामंत्री मुकेश माथुर भी रेलमंत्री और रेलवे बोर्ड अध्यक्ष से लंबे समय से इसकी मांग कर रहे थे। अब उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्यालय और जयपुर सहित चारों मंडलों के कार्मिक विभाग ने इसकी कवायद शुरू कर दी है। गौरतलब है कि इससे एक तरफ जहां राजस्थान (जयपुर, अजमेर, जोधपुर, बीकानेर और कोटा मंडल) के 10 हजार रेलकर्मी लाभान्वित होंगे। वहीं दूसरी तरफ रेलवे की ऑल इंडिया सर्विसेज व एससीआरए के अधिकारियों को भी लाभ मिलेगा।

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply