भोपाल में पीएम मोदी तों जबलपुर में कमलनाथ और दिग्विजय करेंगें आदिवासी शक्ति प्रर्दशन
Share this News

मध्य प्रदेश में आज बिरसा मुंडा की जयंती पर पॉलिटकल पावर देखने को मिलेगा। एक ओर भोपाल में पीएम मोदी नरेंद्र मोदी आदिवासियों के लिए सौगातों की घोषणा कर लुभाने की कोशिश करेंगे।, तो वहीं दूसरी ओर लगभग 300 किमी दूर जबलपुर में कांग्रेस के पूर्व सीएम कमलनाथ और दिग्विजय सिंह की जोड़ी आदिवासी विधायकों संग 2018 में जुड़े इस समाज के वोटबैंक को बनाए रखने की कोशिश करते नजर आएंगे।

सियासी मंच सज चुका है। महाकौशल में दिग्विजय सिंह ने एक दिन पहले 14 नवंबर रविवार को ही मोर्चा संभाल लिया है। मंडला में उन्होंने पार्टी के आदिवासी समाज की बैठक कर अपनी रणनीतियों को धार देने में जुट गई है। सोमवार को जवाहर लाल कृषि विवि परिसर में कांग्रेस भी अपना ताकत दिखाएगी। इसके लिए संभाग के सभी विधायकों को आदिवासी समाज के साथ इस सम्मेलन में पहुंचने का निर्देश दिया गया है।

भोपाल में चलेगा मोदी फेक्टर..? BJP को 15 सीटों में हुआ था नुकसान वहीं से बुलाए डेढ़ लाख जनजातीय

खासकर आदिवासी समाज से चुने गए पार्टी के विधायक आगे रहकर उनकी नुमाइंदगी करेंगे। कांग्रेस का तर्क है कि बिरसा मुंडा की पहली प्रतिमा प्रदेश में जबलपुर में है, इस कारण कांग्रेस यहां आदिवासी सम्मेलन कर रही है। इससे पहले शंकरशाह-कुंवर रघुनाथ शाह के बलिदान दिवस पर 18 सितंबर को दोनों पार्टी जोर आजमाइश कर चुके हैं।

आदिवासी वोटर ही तय करेगा एमपी में कौन सत्ता में बैठेगा

कांग्रेस पार्टी के निवास विधायक डॉक्टर अशोक मर्सकोले का साफ मानना है कि बीजेपी की तरफ से आदिवासी सम्मेलन के नाम पर सिर्फ दिखावा किया जा रहा है। 17 साल में बिरसा मुंडा कभी याद नहीं आए। उन्हें पता है कि एमपी में जो आदिवासी हित की बात करेगा, वहीं प्रदेश में राज करेगा। वर्ष 2003, 2008, 2013 में आदिवासी वोटरों के दम पर ही बीजेपी सत्ता में आई। पर अब उनका छल-प्रपंच और नहीं चलने वाला है। आदिवासी समाज जान गया है कि नाखून कटाकर शहीदों में नाम जुड़वाने वाली ये पार्टी है।

आदिवासी क्षेत्रों में पलायन और प्रताड़ना देख लीजिए, सब समझ में आ जाएगा

प्रदेश में 47 सीटें ट्राइबल के लिए सुरक्षित हैं। 87 आदिवासी ब्लॉक हैं। यहां का पलायन देख लीजिए, प्रताड़ना देख लीजिए। राजा शंकरशाह व रघुनाथ शाह के बलिदान दिवस पर 18 सितंबर को कई घोषणाएं की गई। हम इंतजार कर रहे हैं इनके शुरू होने का। हम तो ओपन डिबेट का चैलेंज देते हैं। बीजेपी आदिवासी हित के लिए चलाई गई योजनाएं बताए, हम उसकी खामियां बताएंगे।

टीएसपी का बजट कहां खर्च किया जा रहा, आदिवासी विकास पर नहीं हो रहा

अब जिलों में बसों में भरकर आदिवासी समाज को भोपाल में ले जाने की नई नौटंकी शुरू हुई है। बीजेपी के दावे खोखले हैं। आदिवासी समाज के विकास के लिए योजनाएं ही नहीं बनती। अभी तक टीएसपी की कुल चार बैठकें हुई हैं। जब बैठक ही नहीं हुई तो राज्यपाल के पास विकास के प्रस्ताव ही नहीं पहुंचा। टीएसपी का बजट कहां खर्च किया गया। ट्राइबल विकास के लिए तो खर्च नहीं किया गया। उस पैसे का इस्तेमाल भोपाल में आदिवासी सम्मेलन के नाम पर किया जा रहा है, जो गलत है।

भोपाल के हबीबगंज रेलवे स्टेशन का बदला नाम, नय़ा नाम रानी कमलापति रेलवे स्टेशन

पूर्व सीएम कमलनाथ व दिग्विजय का ये रहेगा कार्यक्रम

  • पूर्व सीएम हेलीकॉप्टर से गंजबासौदा से शहपुरा में आचार्य विद्यासागर से मिलने पहुंचेगे।
  • वहां से हेलीकॉप्टर से ग्वारीघाट पहुंचेंगे। ग्वारीघाट में नर्मदा दर्शन कर सुबह 11.50 बजे विधायक संजय यादव के हाथीताल आवास जाएंगे।
  • वहां से दोपहर सवा 12 बजे के लगभग वे अधारताल तिराहा स्थित बिरसा मुंडा मूर्ति पर माल्यार्पण करने पहुंचेंगे।
  • दोपहर 12.30 बजे वे कृषि विवि में आयोजित आदिवासी सम्मेलन में शामिल होंगे। लगभग दो बजे वे रवाना होंगे।
  • वहीं पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह सुबह 10 बजे मंडला से सड़क मार्ग से जबलपुर रवाना होंगे।
  • दोपहर 12 बजे वे भी बिरसा मंुडा जंयती में शामिल होने पहुंचेगी।
  • दोपहर 2.30 बजे वे विधायक संजय यादव के आवास पर जाएंगे।

एमपी में आदिवासियों के 21% वोट पर है दोनों दलों की नजर

एमपी में जनजातियों की आबादी 153 लाख से भी ज्यादा है। यह प्रदेश की आबादी का 21.5 फीसदी है। अनुसूचित जनजाति की 47 विधानसभा सीटें भाजपा और कांग्रेस को सत्ता की कुंजी देने में महत्वपूर्ण रोल अदा करती हैं। दोनों ही दल अब बिरसा मुंडा की जयंती के बहाने इस वर्ग में पैठ बनाने की सोच रहे हैं। 2018 में भाजपा को इन वर्ग ने 15 सीटों पर झटका देकर सत्ता से उतार दिया था और उसी कमी को ध्यान में रखते हुए अब भाजपा ने अपनी रणनीति बदली है।

कांग्रेस जबलपुर में जुटा रही आदिवासी
बिरसा मुंडा जयंती पर कांग्रेस भी अपने वोट बैंक को सहेज कर रखने के लिए आज सोमवार को जबलपुर में जनजातीय महासम्मेलन का आयोजन कर रही है। आधारताल में जेएनकेवी में यह आयोजन हो रहा है। इसमें पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ, दिग्विजय सिंह और आदिवासी विधायकों सहित जनजातीय समाज के प्रमुख नेताओं को विशेष रूप से आमंत्रित किया गया है।

आंकड़ों से समझें

  • मध्य प्रदेश में जनजातीय स्थिति आबादी:- एक करोड़़ 53 लाख 16784
  • कुल विधायकों में से जनजातीय आरक्षित विधानसभा सीट:- 47
  • कुल विधायक:-230
  • भाजपा:- 127 (अजजा: 17)
  • कांग्रेस:- 96 (अजजा:29)

हमसे व्हाट्सएप ग्रुप पर जुड़े