पेट्रोल और डीजल और घरेलू एलपीजी गैस के दाम को लेकर बुरी खबर
पेट्रोल और डीजल और घरेलू एलपीजी गैस के दाम को लेकर बुरी खबर

आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज ने एक रिपोर्ट में कहा कि बीते दो महीनों में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तेल के दाम बढ़ने से सरकारी स्वामित्व वाले खुदरा तेल विक्रेताओं को लागत वसूली के लिए 16 मार्च 2022 या उससे पहले ईंधन के दामों में 12.1 प्रति लीटर की वृद्धि करनी होगी।
Advertisement

पेट्रोल और डीजल और घरेलू एलपीजी गैस के दाम को लेकर बुरी खबर आ रही है। आने वाले दिनों में यानी चुनाव के बाद आम जनता महंगाई की मार झेलने के लिए तैयार रहे, क्योंकि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतें लगातार बढ़ती जा रही हैं जिसके बाद देश में पेट्रोल-डीजल समेत घरेलू एलपीजी गैस के दाम बढ़ने के संभावना प्रबल होती जा रही है।

पुलिस मुठभेड़ में मारा गया 1 लाख का इनामी बदमाश, 2 पुलिसकर्मी हुए घायल; AK-47, पिस्टल समेत भारी मात्रा में कारतूस बरामद

पेट्रोल-डीजल के साथ ही घरेलू रसोई गैस सिलेंडर की कीमतें जल्द झटका देने वाली हैं। लगातार हो रहे घाटे को देखते हुए तेल कंपनियां 5 राज्यों में हो रहे विधानसभा चुनावों के बाद घरेलू एलपीजी गैस की कीमतें बढ़ा सकती हैं। सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियों ने रसोई गैस की कीमतों में वृद्धि की है, कमर्शियल गैस सिलेंडर की कीमतों में 105 रुपये का इजाफा हुआ है।

जानिए कब से बढ़ेंगे पेट्रोल और डीजल के दाम!

खुदरा ईंधन विक्रेताओं को लागत वसूली के लिए पेट्रोल और डीजल के दाम 16 मार्च तक 12 रुपये प्रति लीटर से भी अधिक बढ़ाने की आवश्यकता है। उत्तर प्रदेश समेत पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव होने के कारण बीते चार महीने से ईंधन के दाम नहीं बढ़े हैं। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतें गुरुवार को 120 डॉलर प्रति बैरल के पार चली गईं थी जो बीते 9 वर्षों में सर्वाधिक हैं। हालांकि शुक्रवार को दाम थोड़े घटकर 111 डॉलर प्रति बैरल पर आ गए। इसके बावजूद तेल की लागत और खुदरा बिक्री दरों के बीच का अंतर बढ़ता जा रहा है।

क्राइम ब्रांच भोपाल को मिली बड़ी सफलता,मुख्यमंत्री निवास के नाम पैसे मांगने वाला कानपुर से गिरफ्तार

आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज ने एक रिपोर्ट में कहा कि बीते दो महीनों में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तेल के दाम बढ़ने से सरकारी स्वामित्व वाले खुदरा तेल विक्रेताओं को लागत वसूली के लिए 16 मार्च 2022 या उससे पहले ईंधन के दामों में 12.1 प्रति लीटर की वृद्धि करनी होगी। वहीं तेल कंपनियों के मार्जिन को भी जोड़ लें तो 15.1 रुपये प्रति लीटर की मूल्य वृद्धि की आवश्यकता है।’’

बैतूल: महिला ने प्रेमी के साथ मिल की पति की हत्या,मुंह दबा चाकू से किए 19 वार

घरेलू स्तर पर ईंधन की कीमतें तेल की अंतरराष्ट्रीय कीमतों से सीधे प्रभावित होती हैं

रिपोर्ट के अनुसार, ‘‘तीन मार्च, 2022 को वाहन ईंधन का शुद्ध विपणन मार्जिन शून्य से नीचे 4.92 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच गया। चालू वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में अब तक यह 1.61 रुपये लीटर है। हालांकि ईंधन के मौजूदा अंतररराष्ट्रीय मूल्य पर 16 मार्च को शुद्ध मार्जिन घटकर शून्य से नीचे 10.1 रुपये प्रति लीटर और एक अप्रैल को शून्य से नीचे 12.6 रुपये लीटर तक जा सकता है।’’ घरेलू स्तर पर ईंधन की कीमतें तेल की अंतरराष्ट्रीय कीमतों से सीधे प्रभावित होती हैं क्योंकि भारत अपनी तेल आवश्यकता का 85 फीसदी हिस्सा आयात करता है।

हमसे व्हाट्सएप ग्रुप पर जुड़े

खेल की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

रोजगार की खबरें पढ़ने के लिए करें क्लिक

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply