पेंशनभोगियों को जल्द मिलेगी राहत,निकाल सकेंगे 5 लाख रुपए

पेंशनभोगियों को जल्द मिलेगी राहत,निकाल सकेंगे 5 लाख रुपए

Share this News

केंद्र सरकार जल्द रिटायर्ड व्यक्तियों को राहत देने वाली है। पेंशन फंड नियामक व विकास प्राधिकरण पेंशनभोगियों को पेंशन फंड से निकासी की अधिकतम सीमा बढ़ाने पर विचार कर रही है। वर्तमान में अधिकतम निकासी दो लाख रुपए है, जिसे पीएफआरडीए बढ़ाकर पांच लाख करने वाली है। ऐसे में अगर किसी के नेशनल पेंशन स्कीम फंड में 5 लाख रुपए है, वह पूरी राशि निकाल सकेंगे। फिलहाल नियम के मुताबिक पेंशन फंड से 60 फीसद राशि ही निकाल सकते हैं।

जिसकी सीमा दो लाख रुपए से ज्यादा नहीं हो सकती। बाकी 40 फीसद रकम एनपीएफस में जमा रखना जरूरी है। जिसे सरकार निवेश करती हैं और अकाउंट होल्डर को पेंशन देती है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार केंद्र सरकार एनपीएस धारकों को परिजनों को मदद करना चाहती है। अगर खाताधारक को लगता है कि रकम को कई ओर निवेश कर अच्छा रिटर्न मिल सकता है। यह फैसला उनके ऊपर छोड़ा जाएगा।

इस तारीख को हट सकता है लॉकडाउन, कोरोना समीक्षा बैठक में शिवराज ने दिए संकेत

रिपोर्ट्स के मुताबिक पेंशन फंड में पांच लाख रुपए है। तब उससे मिलने वाली मासिक पेंशन बेहद कम होगी। इससे पेंशनभोगी की हर महीने की जरूरत पूरी नहीं हो पाएगी।

कांग्रेस नेता ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री को कोरियर किया गौमूत्र, पूछा- ‘क्या इससे होगा इलाज’?

ऐसे में बेहतर होगा कि उसे पूरे पैसे निकाल लेने और अन्य जगह निवेश करने की परमिशन दी जाए। पीएफआरडीए नई स्कीम में एनपीएस फंड का एक हिस्सा अपने पास रखकर निवेश के माध्यम से 5.5 फीसद तक रिटर्न देने का पक्ष में है। फिलहाल कोरोना संक्रमण के कारण डीए और पेंशन फंड से मिलने वाली कमाई पर रिटर्न अच्छा नहीं मिल रहा है। ऐसे में सरकार यह फैसला पेंशनधारक पर छोड़ने पर सोच रही है कि निकासी करें या रहने दें।

https://www.instagram.com/p/CPCa7aui-fV/?utm_source=ig_web_copy_link

CBSE 10th क्लास के सैंपल पेपर जारी,ऐसे करें डाउनलोड Bhopal: आशा कार्यकर्ता से 7000 की रिश्वत लेते हुए बीसीएम गिरफ्तार Vaidik Watch: उज्जैन में लगेगी भारत की पहली वैदिक घड़ी, यहां होगी स्थापित मशहूर रेडियो अनाउंसर अमीन सयानी का आज वास्तव में निधन हो गया है। आज 91 वर्षीय अमीन सयानी का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है। इस बात की पुष्टि अनेक पुत्र राजिल सयानी ने की है। अब बोर्ड परीक्षाओं का आयोजन वर्ष में दो बार किया जाएगा।