Friday, June 14, 2024
Share this News
Home ताजा खबर मीसा बंदियों की पेंशन बढ़कर होगी 30 हजार,CM का ऐलान

मीसा बंदियों की पेंशन बढ़कर होगी 30 हजार,CM का ऐलान

Share this News

मध्यप्रदेश सरकार ने मीसा बंदियों की पेंशन 30 हजार रु. प्रतिमाह कर दी है।नई दिल्ली के मप्र भवन में इनके लिए स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की तरह रुकने की व्यवस्था होगी।

मध्यप्रदेश सरकार ने मीसा बंदियों की पेंशन 25 हजार से बढ़ाकर 30 हजार रु. प्रतिमाह कर दी है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मध्यप्रदेश दौरे से एक दिन पहले यह घोषणा की।भोपाल में CM हाउस में सोमवार को लोकतंत्र सेनानी सम्मेलन में उन्होंने कहा कि जिनको 5 हजार रु. सम्मान निधि मिलती है, उन्हें अब 8 हजार रुपए मिलेंगे।

दिवंगत सेनानियों के परिवार को दी जाने वाली निधि 8 हजार से बढ़कर 10 हजार रु. की जाएगी। मीसाबंदी के जो शेष लोग हैं, उन्हें 15 अगस्त को ताम्रपत्र देकर सम्मानित किया जाएगा। नई दिल्ली के मप्र भवन में इनके लिए स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की तरह रुकने की व्यवस्था होगी।

कांग्रेस और मुख्यमंत्री शिवराज के बेटे कार्तिकेय के बीच ट्विटर वॉर तेज,नकुलनाथ जब अमेरिका में थे, तो देश में सिख नरसंहार हो रहा था

जिलों में विश्राम गृह में 2 दिन तक 50% शुल्क के साथ रुकने की व्यवस्था होगी। कोई बीमारी हुई तो संपूर्ण इलाज मध्यप्रदेश सरकार कराएगी। मुख्यमंत्री ने लोकतंत्र ​​​​​​​सेनानियों के परिचय पत्र एक बार और चर्चा कर फाइनल करने के लिए कहा है।

क्या है मीसा और कौन है पहला मीसाबंदी .?

आज के 45 वर्ष पूर्व 25-26 जून 1975 को इंदिरा गांधी ने देश में इमरजेंसी लगाया था। इमरजेंसी का नाम आते ही मीसा की भी चर्चा होने लगती है। क्योंकि आपातकाल की घोषणा के तुरंत बाद से ही देश भर में मीसा कानून के तहत गिरफ्तारियां शुरू हो गई थी। गिरफ्तार होने वालों में छात्रनेता, मजदूर नेता, प्राध्यापक, राजनीतिक-सामाजिक कार्यकर्ता विपक्षी दलों के नेता और इंदिरा गांधी की राजनीतिक आलोचना करने वाले शामिल थे। लोकनायक जयप्रकाश नारायण (जेपी) के सहयोगियों-शुभचिंतकों के साथ ही समाजवादी विचारधारा को मानने वाले छात्रों-नौजवानों की संख्या इसमें ज्यादा थी। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ, विद्यार्थी परिषद माकपा एवं एसएफआई से जुड़े लोगों पर भी मीसा का कहर बरपा गया।

SPG Salary: एसपीजी में कैसे मिलती है नौकरी, क्या होती है सैलरी? जानें इनका वर्किंग स्टाइल

भारत सरकार ने मीसा कानून को विशेषतः देश के पहाड़ी हिस्सों में चल रहे हिंसक आंदोलनों को दबाने के बनाया था। आंदोलनकारियों को लंबे समय के लिए गिरफ्तार कर जेल में रखने के लिए इंदिरा सरकार ने यह कानून बनाया था। वैसे इस कानून के अलावा भारत सरकार के पास कई और भी काले कानून थे जिससे आंदोलनकारियों को उत्पीड़ित किया जाता रहा। जैसे भारत रक्षा कानून (एनएसए), भारत सुरक्षा नियम जिसे डीआईआर कहा जाता था। इनका प्रयोग यदा-कदा राज्य सरकारें अपने अपने राज्यों में करती रही थी

Download our App Now

RELATED ARTICLES

Blake Griffin Posterizes Aron Baynes Twice in Race

We woke reasonably late following the feast and free flowing wine the night before. After gathering ourselves and our packs, we...

आदिवासी बहुल सीटों पर गिरा वोट प्रतिशत,इन सीटों पर भाजपा और कांग्रेस के  नेताओं ने ताकत झोंक दी थी।

मध्य प्रदेश के इन सीटों पर दिग्गज नेताओं की कड़ी मेहनत के बाद गिरा वोट प्रतिशत {Vote percentage dropped} पिछले लोकसभा चुनाव की तुलना में...

ममता बनर्जी ने भाजपा को 200 वोट पार करने का दिया चैलेंज

बंगाल: सीएम ने कहा भाजपा 400 पार का नारा दे रही है, पहले 200 साटों का आंकड़ा पार करके दिखाए, बंगाल में फिर हारेगी...

Most Popular

Blake Griffin Posterizes Aron Baynes Twice in Race

We woke reasonably late following the feast and free flowing wine the night before. After gathering ourselves and our packs, we...

आदिवासी बहुल सीटों पर गिरा वोट प्रतिशत,इन सीटों पर भाजपा और कांग्रेस के  नेताओं ने ताकत झोंक दी थी।

मध्य प्रदेश के इन सीटों पर दिग्गज नेताओं की कड़ी मेहनत के बाद गिरा वोट प्रतिशत {Vote percentage dropped} पिछले लोकसभा चुनाव की तुलना में...

ममता बनर्जी ने भाजपा को 200 वोट पार करने का दिया चैलेंज

बंगाल: सीएम ने कहा भाजपा 400 पार का नारा दे रही है, पहले 200 साटों का आंकड़ा पार करके दिखाए, बंगाल में फिर हारेगी...

भोपाल: पूर्व सीएम से जीतू पटवारी पर किया कटाक्ष, कांग्रेस पर आरोप

पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष को जादूगर बताया, कांग्रेस पर भी लगाए कई आरोप पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार...

Recent Comments