देश में एक तरफ ऑक्सीजन की भारी किल्लत देखने को मिल रही है, दूसरी ओर महाराष्ट्र के नासिक में एक बड़ा हादसा हो गया. बुधवार को यहां जाकिर हुसैन अस्पताल में ऑक्सीजन टैंक लीक कर गया, जिसके बाद हड़कंप मच गया. नासिक के इस दर्दनाक हादसे में 22 मरीजों की मौत हो गई है.

Advertisement

SII ने जारी की कोविशील्ड की नई कीमत, जानिए सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में कितने रुपए में मिलेगी एक खुराक

जानकारी के मुताबिक, नासिक के जाकिर हुसैन अस्पताल में वॉल्व खुला रहने की वजह से ऑक्सीजन लीक हो गई थी। लीकेज बंद करने के लिए अस्पताल में सप्लाई रोक दी गई। उस वक्त अस्पताल में 23 मरीज वेंटिलेटर पर थे, जिन्हें ऑक्सीजन मिलनी बंद हो गई। इनमें 22 मरीजों ने दम तोड़ दिया। बता दें कि उद्धव ठाकरे सरकार ने इस हादसे की जांच कराने का आदेश दिया। साथ ही, मृतकों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपये देने का एलान किया।

अस्पताल पहुंचे ऑक्सीजन सिलेंडर तो मच गई लूट, एडमिट मरीजों के परिजनों ने रख लिए दो-दो सिलेंडर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जताया दु:ख

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नासिक हादसे पर ट्वीट करते हुए कहा कि नासिक के एक अस्पताल में ऑक्सीजन टैंक रिसाव की वजह से हादसा दिल दहला देने वाला है. उससे होने वाले जानमाल के नुकसान से दुखी हूं. दुख की इस घड़ी में शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना.

दुष्कर्म के आरोपी ने जेल से छूटते ही रेप पीड़िता को जलाया जिंदा , हालत गंभीर

जाकिर हुसैन अस्पताल नासिक नगर निगम के तहत आने वाला अस्पताल है और पूरी तरह से कोविड-19 अस्पताल है. सुबह 10 बजे अस्पताल में 157 मरीज थे जिसमें 131 ऑक्सीजन पर थे और 15 वेंटिलेटर पर थे. इनमें से 63 मरीजों की हालत क्रिटिकल थी. टायो निप्पन प्राइवेट लिमिटेड चाकन ने 31 मार्च को दोपहर 12.30 बजे 13,000 लीटर वाले टैंक को स्थापित किया था. आज हुई रिसाव को दोपहर करीब 1.30 बजे ठीक कर दिया गया, लेकिन रिसाव की वजह से 22 मरीजों की मौत हो गई.

सरकार कोरोना काल में फिर से कर्मचारियों के वेतन में कर सकती है कटौती

स्थानीय प्रशासन का कहना है कि लीकेज की वजह से ऑक्सीजन की सप्लाई करीब आधे घंटे तक ठप हो गई थी, जिसकी वजह से वेंटिलेटर पर मौजूद 22 मरीजों की मौत हो गई है.

क्या आप जानते हैं कि कैसे हुआ था रावण का जन्म? जन्म के पीछे थी बड़ी ही विचित्र कहानी

अब प्रशासन द्वारा लीकेज की जांच बैठाई जा रही है. शुरुआत तौर पर दावा किया गया था कि जिस वक्त ये घटना हुई, तब अस्पताल में 171 मरीज थे. ऑक्सीजन लीक होने की घटना के बाद अस्पताल में भर्ती मरीजों को दूसरे अस्पताल में शिफ्ट किया गया था. हालात को लेकर राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे का कहना है कि अब लीकेज को कंट्रोल कर लिया गया है.

देश के नाम संबोधन में पीएम मोदी बोले, लॉकडाउन है अंतिम विकल्प, कामगारों से भी की ये खास अपील

नासिक में कोरोना का हाल

कुल केस की संख्या: 2,56,586
एक्टिव केस की संख्या: 44,279
अबतक हुई कुल मौतें: 2,672

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply