प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को एक बड़ी घोषणा की है. घोषणा मेें कहा जिन फ्रंट लाईन वर्कर्स की कोरोना संक्रमण की चपेट में आने से मौत हो चुकी है।उनके परिवार में से किसी एक सदस्य को नौकरी और उनके आश्रितों के भरण-पोषण के लिए 5 लाख रुपए की आर्थिक सहायता दी जाएगी। इसके लिए सरकार दो योजनाएं कोविड-19 विशेष अनुग्रह योजना और विशेष अनुग्रह “-योजना लागू कर रही है।

Advertisement

साध्वी प्रज्ञा ने बताया कोरोना का रामबाण इलाज “गो मूत्र पीने से नहीं होगा कोरोना”

मुख्यमंत्री ने कहा सभी नियमित, स्थाई कर्मचारी, कार्यभारित व आकस्मिक निधि से वेतन पाने वाले, दैनिक वेतन भोगी, संविदा, कलेक्टर दर पर कार्यरत सेवक के परिजनों के आश्रितों में से किसी एक अनुकंपा नियुक्ति उसी पद पर दी जाएगी।

MP: कांग्रेस के पूर्व मंत्री के बंगले में महिला ने की आत्महत्या; छोड़ा सुसाइड नोट, भोपाल में जल्द ही करने वाले थे शादी

इसी तरह, सरकार कोविड-19 विशेष अनुग्रह योजना लागू कर रही है। इसके तहत कोरोना से जिन कर्मचारियों की मौत हुई है, उनके परिवार के पात्र दावेदार को 5 लाख रुपए की अनुगृ़ह राशि दी जाएगी। यह राशि उनके परिवार का संबल बनेगी। इसमें आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, आशा कार्यकर्ता, कोटवार भी योजना में शामिल होंगे।

कोरोना के इलाज में सख्त हुए शिवराज कहा “कोई भी अस्पताल निःशुल्क इलाज से नहीं कर सकता है मना”

उन्होने कहा कि आशा कार्यकर्ताओं के लिए अनुकंपा नियुक्ति की अलग से योजना बनाई जा रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कर्मचारी राज्य शासन के अभिन्न अंग हैं। कोविड महामारी के बीच कर्मचारी निष्ठा के साथ जान हथेली पर रखकर काम कर रहे हैं। ऐसे में दुर्भाग्यपूर्ण घटनाएं हुई हैं। कई कर्मचारी काम-काम करते हमेशा के लिए बिछड़ गए। उनके परिवार की चिंता करना हमारी जिम्मेदारी है।

सावधान..! कहीं आप गरीब हैं तो नहीं..? देखें कैसे भोपाल में पैसे में बिक रही ज़िंदगी..!

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply