'त्रिशूल' और 'वज्र' से चीनी सेना को झटका देंगे भारतीय जवान

न्यूज एजेंसी ANI से बातचीत में कंपनी के CTO मोहित कुमार ने कहा कि गलवान संघर्ष में चीनी सैनिकों द्वारा हमारे सैनिकों के खिलाफ wired sticks और tasers के इस्तेमाल करने के बाद भारतीय सुरक्षा बलों ने हमें गैर-घातक उपकरण विकसित करने के लिए कहा था। चीनी सैनिक तैनाती के दौरान अपने पारंपरिक हथियार अपने पास रखते हैं।

Advertisement

पिछले साल लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सैनिकों ने लोहे की रॉड पर लिपटे कंटील तारों और टेजर्स के जरिए भारतीय सेना के जवानों पर हमला कर दिया था। जिसके बाद हुई झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हुए थे जबकि चीन के करीब 40 सैनिक मारे गए थे। चीन के सैनिकों द्वारा की गई गैर-पेशेवर हरकत का जवाब देने के लिए परांपरिक भारतीय अंदाज में मॉडर्न हथियार तैयार कर लिए गए हैं।

मासूम को कुचला : नगर निगम की कचरा गाड़ी ने 18 माह की मासूम बच्ची को कुचला

नोएडा बेस्ड एक कंपनी बताया कि गलवान घाटी संघर्ष के तुरंत बाद भारतीय सुरक्षा बलों द्वारा उन्हें चीनियों से निपटने में सक्षम होने के लिए उपकरण प्रदान करने का काम सौंपा गया था और उन्होंने उन्हें गैर-घातक हथियारों के रूप में समाधान प्रदान किया है। ये हथियार भगवान शिव के ‘त्रिशूल’ जैसे पारंपरिक भारतीय हथियारों से प्रेरित हैं।

‘त्रिशूल’ और ‘वज्र’ से चीनी सेना को झटका देंगे भारतीय जवान

न्यूज एजेंसी ANI से बातचीत में कंपनी के CTO मोहित कुमार ने कहा कि गलवान संघर्ष में चीनी सैनिकों द्वारा हमारे सैनिकों के खिलाफ wired sticks और tasers के इस्तेमाल करने के बाद भारतीय सुरक्षा बलों ने हमें गैर-घातक उपकरण विकसित करने के लिए कहा था। चीनी सैनिक तैनाती के दौरान अपने पारंपरिक हथियार अपने पास रखते हैं।

भोपाल के इन रास्तों पर रहेगा हैवी ट्र्रैफिक,शहर में कई जगह चल समारोह ट्रैफिक पुलिस को जानकारी नहीं

उन्होंने बताया कि हमने भारतीय सुरक्षा बलों के लिए अपने पारंपरिक हथियारों से प्रेरित ऐसे ही टैसर और गैर-घातक भी विकसित किए हैं।

मोहित ने बताया कि हमने भारतीय सुरक्षा बलों के लिए अपने पारंपरिक हथियारों से प्रेरित ऐसे ही टैसर और गैर-घातक भी विकसित किए हैं। विभिन्न उपकरणों का प्रदर्शन करते हुए, उन्होंने कहा कि वज्र नाम से स्पाइक्स के साथ एक मेटल रॉड टेजर विकसित किया गया है। इसका इस्तेमाल दुश्मन सैनिकों पर आक्रामक रूप से हमला करने के लिए हाथ से मुकाबला करने के साथ-साथ उनके बुलेट प्रूफ वाहनों को पंचर करने के लिए भी किया जा सकता है।

त्‍योहार की शुरुआत से पहले फिर बढ़े गैस सिलेंडर के दाम,जाने आपके शहर में क्या हैं गैस सिलेंडर के दाम

उन्होंने बताया कि वज्र में स्पाइक्स भी हैं जो एक लिमिटेड  मात्रा में करंट डिस्चार्ज करते हैं। ये दुश्मन के सैनिक को आमने-सामने की लड़ाई के दौरान अप्रभावी बना सकते हैं। कुमार ने त्रिशूल का प्रदर्शन किया, जिसका उपयोग विरोधियों के वाहनों को रोकने के साथ-साथ निषिद्ध क्षेत्रों में प्रवेश करने की कोशिश करने के लिए किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि टेसिंग उपकरण से आने वाली सबसे अच्छी प्रतिक्रिया या प्रतिक्रिया को ‘सैपर पंच’ कहा जाता है, जिसे सर्दियों के सुरक्षा दस्ताने की तरह पहना जा सकता है और इसका इस्तेमाल हमलावर दुश्मन सैनिकों को करंट का झटका देने के लिए किया जा सकता है।

https://youtu.be/hd8te9VTmHE

भारतीय सैनिकों को प्रदान किए गए विभिन्न प्रकार के उपकरणों की क्षमताओं का प्रदर्शन करते हुए, कुमार ने कहा कि उनमें से कोई भी मौत या किसी भी गंभीर चोट का कारण नहीं बन सकता है, लेकिन दुश्मन सैनिकों को हाथ से होने वाली लड़ाई के दौरान अस्थायी रूप से अप्रभावी बना सकता है। जब मोहित से ये सवाल किया गया कि भारतीय सुरक्षा बलों की किस संस्था ने उनसे इन उपकरणों को बनाने के लिए कहा था, इसपर उन्होंने किसी भी संस्था का नाम बताने से इंकार कर दिया। उन्होंने कहा कि ये हथियार किसी भी आम नागरिक को नहीं बेचे जाएंगे।

हमसे व्हाट्सएप ग्रुप पर जुड़े

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply