कोरोना महामारी के बीच अब आप घर पर ही खुद से कोविड-19 टेस्ट कर सकते हैं. ICMR ने कोविड के लिए होम बेस्ड टेस्टिंग किट को मंजूरी दे दी है. यह एक होम रैपिड एंटीजन टेस्टिंग (आरएटी) किट है. इसका यूज कोरोना के हल्के लक्षण या संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आए हुए लोग कर सकते हैं.

Advertisement

PM की बैठक के बाद भड़कीं ममता, बोलीं- कठपुतली की तरह बैठे थे सारे सीएम, मुझे बोलने नहीं दिया

होम बेस्ड टेस्टिंग किट के ज्यादा परीक्षण की सलाह नहीं दी गई है. ICMR के अलावा डीसीजीआई ने भी होम बेस्ड टेस्टिंग किट की बाजार में बिक्री की मंजूरी दे दी है. हालांकि, यह टेस्टिंग किट तुरंत बाजार में उपलब्ध नहीं होगी, इसे व्यापक रूप से उपलब्ध होने में कुछ समय लगेगा.

रेमडेसिवीर की कालाबाजारी में आया कैबिनेट मंत्री की पत्नी के ड्राइवर का नाम, कांग्रेस ने मांगा मंत्री का इस्तीफा

ICMR ने कहा है कि पुणे स्थित मायलैब डिस्कवरी सॉल्युशन लिमिटेड की तरफ से रैपिड एंटीजन टेस्ट किट तैयार की गई है. संस्था ने कहा है कि इसका इस्तेमाल वे ही लोग करें, जिन्हें कोविड-19 के लक्षण नजर आ रहे हैं या वे किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आए हैं. ICMR की तरफ से जारी बयान में कहा गया है, ‘इसमें अंधाधुंध टेस्टिंग की सलाह नहीं दी जाती है. सभी लोग जिनकी जांच पॉजिटिव आई है, उन्हें वास्तविक पॉजिटिव माना जा सकता है और बार-बार टेस्टिंग की कोई जरूरत नहीं है. वहीं लक्षणों के बावजूद जिन लोगों के सेल्फ टेस्ट का रिजल्ट निगेटिव आता है तो उन्हें संदिग्ध कोविड केस माना जाएगा और वे आरटी-पीसीआर टेस्ट करा सकते हैं.’

पेंशनभोगियों को जल्द मिलेगी राहत,निकाल सकेंगे 5 लाख रुपए

बता दें कि ICMR के कोविड के लिए होम बेस्ड टेस्टिंग किट को मंजूरी देने के बाद अब कोरोना की जांच करना बहुत आसान होगी. फिलहाल भारत में केवल एक कंपनी को इसकी मंजूरी दी गई है, जिसका नाम Mylab Discovery Solutions Ltd (मायलैब डिस्कवरी सॉल्यूशंस लिमिटेड) है.

इस तारीख को हट सकता है लॉकडाउन, कोरोना समीक्षा बैठक में शिवराज ने दिए संकेत

होम टेस्टिंग मोबाइल ऐप Google प्ले स्टोर और Apple स्टोर में उपलब्ध है. इसे सभी यूजर्स डाउनलोड कर सकते हैं. मोबाइल ऐप टेस्टिंग प्रक्रिया का एक व्यापक मार्गदर्शक है, जो पॉजिटिव या निगेटिव रिजल्ट प्रदान करेगा. इस ऐप का नाम Mylab Covisself नाम है.

कांग्रेस नेता ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री को कोरियर किया गौमूत्र, पूछा- ‘क्या इससे होगा इलाज’?

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस टेस्ट किट को बनाने वाली कंपनी माइलैब ने इसकी कीमत भी तय कर दी है। कुछ महीनों में तैयार होने के बाद लॉन्चिंग के वक्त इसके लिए लोगों को 250 रुपए प्रति किट के हिसाब से चुकाने होंगे। कंपनी के एमडी के मुताबिक, यह टेस्ट किट अगले एक हफ्ते में बाजार में आ सकती है।

कोरोना से अनाथ बच्चों को 21 साल तक मिलेगी 5 हजार पेंशन, इन पीड़ितों को नहीं मिलेगा लाभ

अधिकतम 15 मिनट में आ जाएंगे नतीजे:

बताया गया है कि इसके जरिए टेस्ट करने पर लोगों को नतीजे जानने में ज्यादा से ज्यादा 15 मिनट का समय लगेगा। पॉजिटिव नतीजे महज 5 से 7 मिनट में ही पता चल जाएंगे, जबकि निगेटिव रिजल्ट के बारे में ज्यादा से ज्यादा 15 मिनट लगेंगे।

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply