मंदिर में लगा मर्यादित वस्त्र पहनकर आने का पोस्टर..छोटे कपड़े पहने तो मंदिर में नो एंट्री नागदा में हनुमान मंदिर में ड्रेस कोड लागू..
मंदिर में लगा मर्यादित वस्त्र पहनकर आने का पोस्टर..छोटे कपड़े पहने तो मंदिर में नो एंट्री नागदा में हनुमान मंदिर में ड्रेस कोड लागू..
Share this News

मंदिर में लगा मर्यादित वस्त्र पहनकर आने का पोस्टर..छोटे कपड़े पहने तो मंदिर में नो एंट्री नागदा में हनुमान मंदिर में ड्रेस कोड लागू..

मध्यप्रदेश के मंदिर में लगा मर्यादित वस्त्र पहनकर आने का पोस्टर..अशोकनगर और भोपाल के बाद अब उज्जैन के नागदा में हनुमान मंदिर में ड्रेस कोड लागू कर दिया गया है। यहां के खड़े हनुमान मंदिर में पोस्टर लगाया गया है। इसमें लिखा है कि छोटे वस्त्र, हाफ पैंट, बरमूडा, मिनी स्कर्ट, नाइट सूट, कटी-फटी जीन्स जैसे कपड़े पहनकर आने वालों को एंट्री नहीं दी जाएगी। ऐसे लोग मंदिर के बाहर से ही दर्शन कर सकेंगे।

पहले पढ़िए, क्या लिखा है पोस्टर पर

नागदा के खड़े हनुमान मंदिर में सोमवार सुबह जब श्रद्धालु दर्शन करने पहुंचे, तो मंदिर गेट के पास पोस्टर लटका दिखा। जिसमें लिखा –

पंडित धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री की कथा में 110 शिक्षकों की ड्यूटी,डीईओ बोले कलेक्टर का आदेश

‘सभी महिलाओं एवं पुरुषों से निवेदन है कि मर्यादित वस्त्र पहनकर ही मंदिर में प्रवेश करें। छोटे वस्त्र, हाफ पैंट, बरमूडा, मिनी स्कर्ट, नाइट सूट, कटी-फटी जीन्स आदि ऐसे कपड़े पहनकर आने पर बाहर से ही दर्शन कर सहयोग करें।

– भारतीय संस्कृति का पालन करते हुए सात्विक वस्त्र में ही प्रवेश करें।’

हालांकि पोस्टर में प्रवेश पर प्रतिबंध की बात नहीं कही गई है। पोस्टर सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। मंदिर के पुजारी पवन ने बताया कि खड़े हनुमान का प्राचीन मंदिर है। पोस्टर लगाने के पीछे का उद्देश्य यही है कि जो नए भक्त आते हैं, वो मर्यादा का ख्याल रखें। मंदिर में आने वाली युवा पीढ़ी को मोटिवेशन मिले।

संस्कृति बचाओ मंच ने मंदिरों में लगाए बोर्ड

इधर, संस्कृति बचाओ मंच ने भोपाल के अन्य मंदिरों में भी बोर्ड लगाए हैं। इन बोर्ड में शालीन और मर्यादित कपड़े पहनकर ही मंदिरों में प्रवेश किए जाने की बात लिखी गई है। न्यू मार्केट स्थित खेड़ापति हनुमान मंदिर और अवंतिबाई चौराहा स्थित प्राचीन माता मंदिर में बोर्ड लगाकर श्रद्धालुओं से अपील की गई है। मंच के अध्यक्ष चंद्रशेखर तिवारी ने बताया कि भोपाल के सभी मंदिरों में ड्रेस कोड लागू करने के प्रयास किए जा रहे हैं। इसके लिए बोर्ड भी लगाए जा रहे हैं।

Download our App Now