पंजाब सरकार ने कोरोना के चलते सारे स्कूल बंद कर दिए हैं, लेकिन प्रदेश की राजधानी से मात्र 25 किलोमीटर की दूरी पर बनूड़ के पास गांव तंगोरी में एक बोर्डिंग स्कूल नियमों को ताक पर रखकर चल रहा था। जब प्रशासन को इस बारे में पता चला तो संस्थान में सर्च की गई। साथ ही मौके पर स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों और स्टाफ के कोरोना टेस्ट करवाए गए। इस दौरान 42 बच्चे और तीन स्टाफ सदस्य कोरोना पॉजिटिव पाए गए।

Advertisement

अच्छी खबर: 1 मई से भारत आ जाएगी SputnikV की पहली खेप, कोराेना पर 91.6% हो सकती है प्रभावी

प्रशासन ने सभी संक्रमितों को आइसोलेशन सेंटर में भेज दिया गया। जबकि बाकी को घर भेज कर स्कूल को सील कर दिया गया है। स्कूल के डायरेक्टर पर कोविड गाइड लाइन तोड़ने के तहत केस दर्ज किया गया है।

सरकारी बैंक में 5237 पदों पर बंपर भर्ती, जानिए आवेदन प्रक्रिया

जानकारी के मुताबिक जिला प्रशासन को शिकायत मिली थी कि तंगोरी के पास स्थित बोर्डिंग स्कूल करियर प्वाइंट गुरुकुल नियमों को ताक में रखकर चल रहा है। यहां पर सात से 12 साल तक के बच्चों को पढ़ाया जा रहा था। मामला ध्यान में आते ही प्रशासन की तरफ से सेहत, पुलिस व प्रशासन की जांच टीम बनाई गई। टीम पूरी तैयारी के साथ स्कूल पहुंची। वहां देखा कि स्कूल खुला था। इसके बाद सारे बच्चों व टीचरों के कोरोना के टेस्ट करवाए गए। करीब सात घंटे के अंदर यह सारी मुहिम पूरी की गई।

इस विधायक ने मरीजों के लिए तोड़ दी 90 लाख की FD, फ्री बांट रहे रेमेडिसविर इंजेक्शन

इस दौरान हॉस्टल में रह रहे 197 छात्रों और बीस टीचरों के टेस्ट करवाए गए। संक्रमित छात्रों व टीचरों को आइसोलेशन सेंटर भेज दिया गया। इसके साथ ही सभी बच्चों के पेरेंटस को सूचित किया गया।

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply