छत्तीसगढ़ में नक्सलियों ने एक पुलिस जवान की हत्या कर दी है। एक अधिकारी ने शनिवार को जानकारी दी कि नक्सली, इंस्पेक्टर को तीन दिन पहले बीजापुर जिले से अगवा कर ले गए थे।

Advertisement

श्मशान घाट पर लगा शवों का अंबार, कोरोना ने बदल दी अंतिम संस्कार की परंपराएं

पुलिस अधीक्षक कमलोचन कश्यप ने बताया कि 21 अप्रैल को मुरली ताती जब पलनार स्थित अपने घर आए थे तब नक्सलियों ने उन्हें बीजापुर से अगवा किया था।नक्सलियों ने मुरली के शव को एक गांव के पास गंगालूर में फेंक दिया। शव के पास एक संदेश भी दिया गया था जिसमें लिखा था- “जनता की अदालत ने इसे सजा दी है”।

बेटा पैदा नहीं किया तो ससुराल वालों नें भूखे रखकर डंडों से पीटा,महिला ने रो-रो कर बताया दर्द

इस माह छत्तीसगढ़ के सुकमा-बीजापुर क्षेत्र में एक नक्सली हमले में कम से कम 22 सुरक्षाकर्मी शहीद हुए हैं और 30 से अधिक सुरक्षाकर्मी घायल हो गए हैं। एक सीनियर पुलिस अधिकारी ने बताया कि मुरली ताती सहायक कांस्टेबल के रूप में पुलिस में शामिल हुए थे और बीजापुर में कुछ सबसे महत्वपूर्ण नक्सल विरोधी अभियानों में शामिल रहे हैं। वह एक लंबे समय से माओवादियों की हिट-लिस्ट में थे।

शिवराज सिंह चौहान ने केजरीवाल को बताया ओछी राजनिती करने वाला,पीएम माेदी की बैठक हुई थी लाइव’

अचानक घर से निकल गए थे

ताती की पत्नी मैनू ताती ने बताया कि वे एक दिन अचानक घर से निकल गए थे। उन्होंने बताया कि बाद में जानकारी मिली कि नक्सलियों ने उसके पति का अपहरण कर लिया है। छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित बीजापुर जिले के पालनार गांव से बुधवार को नक्सलियों ने पुलिस उप निरीक्षक मुरली ताती का अपहरण कर लिया था।

मध्‍य प्रदेश: सड़क पर चलते शव वाहन से नीचे गिरी लाश, सामने आई बड़ी लापरवाही…

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply