उज्जैन: मध्यप्रदेश में जहां सियासी बवाल चरम पर है तो वहीं आपराधिक गतिविधियों के मामले भी कम होने का नाम नहीं ले रहे है इस बीच ही मध्यप्रदेश के उज्जैन जिले के नागदा क्षेत्र से एक मामला सामने आया है जिसमें एक शातिर युवती ने नकली वर्दी की आड़ में नकली नोट छापने की वारदात को अंजाम दिया। पुलिस ने कार्रवाई करते हुए युवती के घर से नकली नोट छापने की सामग्री सहित नकद जब्त किए है। फिलहाल मामले पर कार्रवाई जारी है।

भोपाल में लगी धारा-34, नही जमा हो सकते 20 से ज्यादा लोग…

क्या है पूरा मामला

जानकारी के मुताबिक, यह मामला उज्जैन जिले के नागदा क्षेत्र का है जहां मंगलवार रात को 9.30 बजे के करीब शेषशायी चौक पर स्थित जैन दूध डेयरी पर एक युवती नकली सौ का नोट लेकर दूध लेने आई है। मामला संदिग्ध लगते ही तत्काल दुकानदार ने मंडी थाने को सूचना दी। जिसकी सूचना पाते ही पुलिस मौके पर पहुंची और युवती के प्रकाश नगर स्थित पहुंचकर दबिश दी। जिस दौरान पुलिस ने आरोपी युवती को गिरफ्तार किया। मामले में युवती ने अपना नाम बुलबुल परमार (27 वर्ष) बताया जिसके पिता पेशे से पत्रकार है। आगे तलाशी लेते हुए पुलिस ने घर से 2 हजार के दो, 200 के चार, 500 के तीन, 100 के पांच नए और तीन पुराने नोट सहित, नकली करंसी छापने की सामग्री बरामद की है।

रूठें विधायकों को मनाने बेंगलुरु पहुंचे केपी सिंह..

नकली वर्दी की आड़ में दिया अंजाम

इस संबंध में शातिर युवती ने पूछताछ के दौरान बताया कि, नकली वर्दी शहर में पाड़ल्या रोड स्थित किसी टेलर के यहां वर्दी सिलवाई गई है। पुलिस ने इस टेलर का नाम सार्वजनिक नहीं किया है। साथ ही दो माह से इस वारदात को अंजाम दिया जा रहा है। बताया जा रहा है कि, पुलिस को आरोपी बुलबुल के घर से ऐसे फोटो भी बरामद हुए हैं जिसमें बुलबुल सब इंस्पेक्टर की वर्दी में है, जहां अक्सर वह अपने इंदौर स्थित ननिहाल में भी खाकी वर्दी पहनकर खुद को सब इंस्पेक्टर बताकर रौब झाड़ती थी। वहीं आरोपी युवती का एकेडमिक रिकॉर्ड काफी बेहतर है, इसलिए भी लोग इसके झांसे में आ जाते थे।

20 घंटे में दूसरी बार राजभवन पहुंची भाजपा, राष्ट्रपति शासन लगने के आसार हैं..

पुलिस द्वारा कार्रवाई जारी

इस संबंध में पुलिस द्वारा कार्रवाई जहां जारी है वही प्रदेश से बाहर नकली कारोबार जुड़ने की संभावना जताई जा रही है क्योंकि जो नकली करंसी मिली है वो हूबहू असली नोट जैसी है।फिलहाल पुलिस द्वारा युवती के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर यह पता लगाया जा रहा हैं कि उसका नेटवर्क कहां था है और उसके साथी गिरोह कौन है।

पिछला लेखभोपाल में लगी धारा-34, नही जमा हो सकते 20 से ज्यादा लोग…
अगला लेखरंजन गोगोई ने सालभर पहले ‘न्यायिक आज़ादी पर धब्बा’ बताया था रिटायरमेंट के बाद पोस्ट लेने पर..
तेजी से बदलती इस दुनिया में तमाम खबरें पाने का एक मंच..होगी हर खबर पर विचारोदय ऑनलाइन खबरी की नजर.. Email:- vicharodaya@gmail.com

Leave a Reply