सीधी से लोकसभा टिकट नहीं मिलने पर सांसद अजय प्रताप सिंह ने छोड़ी भाजपा

सीधी से लोकसभा टिकट नहीं मिलने पर सांसद अजय प्रताप सिंह ने छोड़ी भाजपा

Share this News

राज्यसभा सांसद अजय प्रताप सिंह ने शुक्रवार को भाजपा का साथ छोड़ दिया है उन्होंने कहा है कि करनी और कथनी में अंतर होता है।

लोकसभा चुनाव 2024 से ठीक पहले जहां नेताओं का अपनी सहूलियत के हिसाब से दल बदल का दौर जारी है इसी बीच भाजपा के सांसद अजय प्रताप सिंह ने शुक्रवार को भाजपा का साथ छोड़ दिया आपको बता दें अजय प्रताप सिंह फिलहाल मध्य प्रदेश से राज्यसभा सांसद है उन्होंने कहा कि बीजेपी की कथनी और करनी में अंतर है पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा को अपना इस्तीफा भेजा। वे 2018 से राज्यसभा सदस्य हैं। सांसद ने शनिवार सुबह मीडिया से कहा कि मेरी अभी किसी भी पार्टी में जाने की और चुनाव लड़ने की इच्छा नहीं है।

सूत्रों की माने तो अजय प्रताप सिंह सीधी लोकसभा सीट से टिकट चाहते थे लेकिन उनके स्थान पर पार्टी ने डॉक्टर राजेश मिश्रा को टिकट दे दिया तो वहीं कांग्रेस ने यहां पर कमलेश्वर पटेल को अपना उम्मीदवार घोषित किया है आपको बता दे साल 2019 में सीधी की इस विधानसभा सीट से भाजपा की रीति पाठक सांसद चुनी गई थी

आचार संहिता के पहले एक्टिव मोड में मध्यप्रदेश सरकार,मंत्रालय में रात तक दौड़ती रहीं फाइलें

राजनीति मेरे लिए सेवा का माध्यम थी
मीडिया से बातचीत में अजय प्रताप ने कहा कि राजनीति सही मायने में हमारे लिए सेवा का माध्यम थी, धनार्जन का नहीं। आज कुछ परिस्थितियां ऐसी निर्मित हो गई हैं कि मैं अपने आप को भारतीय जनता पार्टी के अनुकूल नहीं मान पा रहा हूं, इसलिए मैंने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से त्याग पत्र दे दिया है।

सांसद ने पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्‌डा और प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा को इस्तीफा भेजा
सांसद ने पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्‌डा और प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा को इस्तीफा भेजा

पार्टी के बाहर आकर उठाऊंगा आवाज
अजय प्रताप ने कहा कि मेरा पार्टी की कार्यप्रणाली से विश्वास उठ गया है। लंबे समय से जिन विषयों को में सदन और आपके माध्यम से उठाता रहा हूं, उसकी उपेक्षा हुई है। भारतीय जनता पार्टी की कथनी और करनी में अंतर है, इसलिए मुझे लगा कि पार्टी के अंदर रहकर उन विषयों को नही उठा पाऊंगा। पार्टी के बाहर आकर उनको आवाज दूंगा। यह सभी बातें बहुत लंबे समय से चल रही हैं। अगर मैंने इस्तीफा दिया है तो समझिए कि ये इसकी चरम सीमा है।

हमें व्हाट्सएप पर फॉलो करें

CBSE 10th क्लास के सैंपल पेपर जारी,ऐसे करें डाउनलोड Bhopal: आशा कार्यकर्ता से 7000 की रिश्वत लेते हुए बीसीएम गिरफ्तार Vaidik Watch: उज्जैन में लगेगी भारत की पहली वैदिक घड़ी, यहां होगी स्थापित मशहूर रेडियो अनाउंसर अमीन सयानी का आज वास्तव में निधन हो गया है। आज 91 वर्षीय अमीन सयानी का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है। इस बात की पुष्टि अनेक पुत्र राजिल सयानी ने की है। अब बोर्ड परीक्षाओं का आयोजन वर्ष में दो बार किया जाएगा।