मुंबई सीरियल ब्लास्ट
मुंबई सीरियल ब्लास्ट

मुंबई में साल 1993 में हुए सीरियल ब्लास्ट में शामिल आतंकी अबु बक्र को भारतीय एजेंसी के इनपुट पर UAE में गिरफ्तार किया गया है. अबु बक्र के खिलाफ साल 1997 में रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया गया था और तब से उसे पकड़ने की तलाश जारी थी.

Advertisement

भारत के खुफिया एजंसी द्वारा कई देशों में बड़े सर्च ऑपरेशन चल रहे बड़े सर्च जिनमे से एक में भारतीय एजेंसियों ने 29 साल बाद एक बड़ी सफलता हासिल कि हैं मुंबई 1993 के सीरियल ब्लास्ट मामले में शामिल भारत के मोस्ट वांटेड आतंकवादियों में से एक अबु बक्र को पकड़ने में भारतीय एजेंसियों को सफलता हासिल हुई है. आपकों बतां दें मुंबई सीरियल ब्लास्ट के दौरान मुंबई के 12 अलग-अलग जगहों पर ब्लास्ट में हुए थे. जिसमें 257 लोग मारे गए थे और 713 लोग घायल हुए थे.सुत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक अब पकड़े गए आतंकी अबु बक्र को UAE से इंडिया लाया जाएगा.

नक्सलियों ने विस्फोट कर रेल पटरी को उड़ाया,कई ट्रेनें प्रभावित तो कुछ ट्रेनों को करना पड़ा रद्द

आपकों बतां दें पकड़े गए आतंकवादी का नाम अबु बक्र है जो POK में हथियारों और विस्फोटकों के प्रशिक्षण के अलावा सिलसिलेवार होने वाले ब्लास्ट में इस्तेमाल किये जाने वाले आरडीएक्स की लैंडिंग में शामिल रहा. जोकि एक लम्बें समय से  संयुक्त अरब अमीरात और पाकिस्तान में रह रहा था. उसे हाल ही में संयुक्त अरब अमीरात में भारतीय एजेंसियों के इनपुट पर पकड़ा गया था.

जानकारी के मुताबिक इससे पहले 2019 में भी अबु बक्र को गिरफ्तार किया गया था, लेकिन कुछ दस्तावेज मामलों के कारण वो यूएई के अधिकारियों की हिरासत से खुद को रिहा कराने में कामयाब रहा. शीर्ष सूत्रों ने पुष्टि की है कि भारतीय एजेंसियां ​​अबु बक्र के प्रत्यर्पण की प्रक्रिया में हैं, जो लंबे समय से देश की मोस्ट वांटेड लिस्ट में था. लगभग 29 वर्षों से वांटेड बक्र संयुक्त अरब अमीरात से वापस लाए जाने के बाद भारत में कानून का सामना करेगा.

इस नेता को सता रहा है अपने ही सुरक्षाकर्मी से डर कहा-सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मी मार सकते हैं गोली

अबु बक्र जिसका पूरा नाम अबु बक्र अब्दुल गफूर शेख है, जो मोहम्मद और मुस्तफा दोसा के साथ तस्करी में शामिल था, जो दाऊद इब्राहिम के प्रमुख लेफ्टिनेंट थे. वह खाड़ी देशों से सोना, कपड़े और इलेक्ट्रॉनिक्स की तस्करी करके मुंबई और आसपास के लैंडिंग पॉइंट्स पर लाता था.

1997 में उसके खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया गया था और तब से उसे पकड़ने की तलाश जारी थी जो अब संयुक्त अरब अमीरात के सूत्रों के अनुसार सफल रही है. अबु बक्र ने एक ईरानी नागरिक से शादी की है जो उसकी दूसरी पत्नी है.

इंदौर में चायना डोर से कटा युवक का गला,फूट पड़ा खून का फव्वारा रीगल ब्रिज कि घटना

केंद्रीय एजेंसियों के शीर्ष सूत्रों ने आज शाम इंडिया टुडे को इस घटनाक्रम की पुष्टि की और यह भी कहा कि अबु बक्र के प्रत्यर्पण की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है, जो मोस्ट वांटेड आरोपी है.

हमसे व्हाट्सएप ग्रुप पर जुड़े

खेल की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

रोजगार की खबरें पढ़ने के लिए करें क्लिक

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply