Share this News

https://www.instagram.com/p/B_4evRzAPBw/?igshid=fv1gch36y4lq

नौ करोड़ के करीब उपयोगकर्ताओं ने आरोग्य सेतु मोबाइल एप्लिकेशन डाउनलोड किया है और यह अनिवार्य कर दिया गया है कि सरकारी और निजी क्षेत्र के कर्मचारी इसका इस्तेमाल COVID-19 महामारी से लड़ने के लिए प्रयास करने के लिए करें। COVID-19 पर मंत्रियों के समूह (GoM) को इसकी 14 वीं बैठक के दौरान मंगलवार को अधिकारियों द्वारा इसके काम, प्रभाव और लाभ के बारे में सूचित किया गया।

सेना व अर्धसैनिक बलों के शहीद की पत्नी को 50 लाख की आर्थिक सहायता व सरकारी नौकरी देगी सरकार

सरकार ने बुधवार को कहा कि एक नैतिक हैकर द्वारा आवेदन में संभावित सुरक्षा मुद्दे पर चिंता जताए जाने के बाद आरोग्य सेतु में कोई डेटा या सुरक्षा उल्लंघन की पहचान नहीं की गई है और इसकी विपक्षी कांग्रेस नेताओं ने आलोचना की थी। कहा गया कि मोबाइल एप्लिकेशन उपयोगकर्ताओं को यह पहचानने में मदद करता है कि उन्हें COVID-19 का खतरा है या नहीं। यह कोरोना वायरस और इसके लक्षणों से बचने के तरीकों सहित लोगों को महत्वपूर्ण जानकारी भी प्रदान करता है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के नाम अपने संबोधन में कोरोना वायरस को हराने की लडाई में सात बातों का साथ मांगा था। इनमें से चौथी सबसे जरूरी बात थी कि हर देशवासी अपने फोन में आरोग्‍य सेतु एप डाउनलोड करें। आरोग्य सेतु एप एंड्रॉयड और आईओएस दोनों पर उपलब्ध है। इसे एप स्टोर के जरिये डाउनलोड किया जा सकता है। सुनिश्चित करें कि आरोग्‍य (Aarogya) और सेतु (Setu) के बीच कोई स्थान नहीं हो या फिर एप खोजने के लिए सर्च बार में ‘AarogyaSetu’ टाइप करें। अंग्रेजी और हिंदी समेत आरोग्‍य सेतु एप 11 भारतीय भाषाओं में उपलब्‍ध है। इंस्‍टॉल करने के बाद एप को खोलें और अपनी पसंदीदा भाषा को चुनें। https://youtu.be/8F_zLeAI0sk