गणतंत्र दिवस के दिन किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान हजारों की संख्या में किसान समय से पहले विभिन्न सीमाओं पर लगे अवरोधकों को तोड़ते हुए दिल्ली में प्रवेश कर गए। कई जगह पुलिस के साथ उनकी झड़प हुई और पुलिस को लाठी चार्ज और आंसू गैस के गोलों का सहारा लेना पड़ा। प्रदर्शनकारी लाल किले में भी घुस गए और वहां ध्वज स्तंभ पर धार्मिक झंडा लगा दिया था। ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई इस हिंसा में दिल्ली पुलिस के 394 कर्मी घायल हुए हैं। वहीं, अब सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि दिल्ली पुलिस के 200 पुलिसकर्मियों द्वारा सामूहिक इस्तीफा दिया गया है।

इंसान की हड्डियां बेचने वाला तस्कर हुआ गिरफ्तार, कई मानव खोपडी भी बरामद

सोशल मीडिया पर एक पोस्ट वायरल हो रही है जिसमें लिखा है, ”दिल्ली पुलिस में बगावत, 200 पुलिसकर्मी बने बागी, दिया सामूहिक इस्तीफा” #FarmerProtest

मुख्यमंत्री ने जतायी नाराज़गी, नगर निगम के उपायुक्त को किया निलंबित

क्या दिल्ली में 200 पुलिसकर्मियों ने दिया सामूहिक इस्तीफा?

200 पुलिसकर्मियों सामूहिक इस्तीफे के दावे को लेकर प्रेस इनफार्मेशन ब्यूरो (PIB) की फैक्ट चेक विंग ने जांच की है। जांच में PIB की फैक्ट चेक विंग ने इस सोशल मीडिया में किए गए दावे को गलत पाया है। PIB फैक्ट चेक का कहना है कि दिल्ली पुलिस के 200 पुलिसकर्मियों द्वारा सामूहिक इस्तीफा नहीं दिया गया है, यह पोस्ट फेक है।

पति को छोड़ने के लिए नहीं मानी प्रेमिका तो प्रेमी ने बच्ची के सामने गला काटकर उतार दिया मौत के घाट

PIB का फैक्ट चेक

PIB फैक्ट चेक ने ट्वीट में लिखा, “दावा: सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि दिल्ली पुलिस के 200 पुलिसकर्मियों द्वारा सामूहिक इस्तीफा दिया गया है।….PIB फैक्ट चेक- यह दावा फ़र्ज़ी है।”

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply