बेंगलुरु: बेंगलुरु में मौजूद ज्योतिरादित्य सिंधिया समर्थक विधायकों उनसे भाजपा में जाने की बजाए नई पार्टी बनाने की मांग कर रहे हैं। उनका कहना है कि हम सिंधिया के साथ खड़े हैं, लेकिन भाजपा के साथ नहीं। इनसे मिलकर आए मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि सिंधिया के कदम से बेंगलुरु में मौजूद विधायक खुश नहीं है।

मध्य प्रदेश / 53 साल पहले विजयाराजे ने कांग्रेस को सत्ता से बेदखल किया था, अब पोते ज्योतिरादित्य ने सरकार को संकट में डाला

उन्हें बिना कुछ बताए बेंगलुरु ले जाया गया, वे सभी कांग्रेस के साथ हैं। उधर इस बीच खबर आ रही है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया आज भाजपा में शामिल हो सकते हैं, इसके पहले उनके दिल्ली स्थित घर के बाद सुरक्षा बढ़ा दी गई है। सिंधिया द्वारा कल कांग्रेस से इस्तीफा देने के बाद मध्य प्रदेश की सियासत में उठा-पटक और तेज हो गई है।

सियासी संकट के बीच CM कमलनाथ ने राज्यपाल को लिखा पत्र, छह मंत्रियों को तुरंत हटाने की मांग की

सिंधिया समर्थक मंत्री और विधायकों को इस्तीफे के बाद भाजपा और कांग्रेस दोनों ही दलों ने अपने विधायकों की बैठक बुलाई। इसके बाद देर रात भाजपा के 106 विधायकों फ्लाइट द्वारा भोपाल से दिल्ली पहुंचे और इसके बाद उन्हें गुरुग्राम के एक होटल में ले जाया गया। भाजपा विधायक नारायण त्रिपाठी उनकी माता जी के निधन की वजह से नहीं आए।

पिता माधवराव सिंधिया के नक्शेकदम पर ज्योतिरादित्य, कांग्रेस को अलविदा

भाजपा विधायकों के कैलाश विजयवर्गीय और विनय सहस्त्रबुद्धे भी मौजूद हैं। उधर तोड़-फोड़ की आशंका के चलते कांग्रेस भी अपने विधायकों को जयपुर भेज दिया है। सीएम कमलनाथ का कहना है कि कांग्रेस को कोई संकट नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने मध्य प्रदेश में मध्यावधि चुनाव के लिए तैयार रहने को कहा। मध्य प्रदेश में होली के दिन सुबह शुरू हुआ सियासी घटनाक्रम अब भी जारी है, इससे जुड़ी हर जानकारी जानिए यहां…

ना CM ना PM, शपथ ग्रहण में ‘बेबी मफलरमैन’ होगा AAP का खास मेहमान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here