नर्मदांचल में हर पर्व और त्योहार की तरह नागपंचमी का पर्व भी भक्ति भाव के साथ मनाया जाएगा। शहर के दो स्थानों पर बने नागदेवता मंदिरों में दिनभर श्रद्धालुओं के द्वारा पूजन अर्चन और दर्शन का क्रम जारी रहेगा।

Advertisement

होशंगाबाद। नर्मदांचल में हर पर्व और त्योहार की तरह नागपंचमी का पर्व भी भक्ति भाव के साथ मनाया जाएगा। शहर के दो स्थानों पर बने नागदेवता मंदिरों में दिनभर श्रद्धालुओं के द्वारा पूजन अर्चन और दर्शन का क्रम जारी रहेगा। इसी के साथ घर घर में नागदेवता की पूजन की जाएगी। इस दौरान कोठी बाजार में नर्मदा तट स्थित नर्मदेश्वर महादेव मंदिर के तीसरी मंजिल के ऊपर बने नागदेवता के मंदिर के दरवाजे भी खुलेंगे।

यह भी पढ़े :मोदी सरकार के ऐलान से पाकिस्तान हैरान, बोला- करेंगे विरोध भारत का यह फैसला,मंजूर नहीं है.

इस मंदिर के पट उज्जैन के महाकालेश्वर महादेव मंदिर की तर्ज पर साल भर में सिर्फ नागपंचमी के दिन खोले जाते हैं। इसी के साथ नागपंचमी पर कई लोग परंपरागत रुप से अपने घरों में नारियल की नरेली जलाकर उसकी राख में दूध मिला कर उससे दीवार पर नाग की आकृति उके रेंगे। घर में विधिविधान से पूजन होगी। परंपरा के तहत कई लोगों के घरों में चूल्हे पर तवा नहीं रखा जाता। दाल बाटी बनाते हैं। सोहागपुर में चौरसिया समाज के द्वारा नागपंचमी को चौरसिया दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस मौके पर नागदेवता की विशेष पूजन अर्चन की जाएगी है।

यह भी पढ़े : कश्मीर के बाद अब mp के सभी जिलों में अलर्ट जारी, अफवाहों से रहें सावधान

नागपंचमी पर विशेष पूजन अर्चन

मंदिरों के शहर होशंगाबाद में नागपंचमी का पर्व विशेष रुप से मनाया जाता है। आज सावन सोमवार होने से इस पर्व का और अधिक महत्व हो गया है। यहां पर दो स्थानों पर नागदेवता के मंदिर हैं। जिनमें एक सेठानी घाट पर नाग मंदिर है जो कि कई वर्ष पुराना मंदिर है। यहां पर सुबह से ही नागदेवता की पूजन का सिलसिला शुरू होगा। जो दिन भर जारी रहेगा।

इसी तरह कोठी बाजार में 6 वर्ष पूर्व प्रकाश चंद्र चौरे ने नागचंद्रेश्वर मंदिर की स्थापना नर्मदेश्वर महादेव मंदिर के की तीसरे मंजिल की गुबंद पर की। यहां पर उन्होने 12 नाग नागिन के जोडों के साथ शिव पार्वती जी की प्रतिमा की स्थापना की गई है। इस मंदिर के दरवाजे नागपंचमी के दिन ही खुलते हैं। यहां पर सभी श्रद्धालुओं की नागदेवता की पूजन अर्चन करने के लिए पूरे दिन द्वार खुले रहते हैं। पूजन अर्चन करने वालों का सुबह से लेकर रात तक तांता लगा रहता है।

यह भी पढ़े :कश्मीर पर बड़ा फैसला: दिग्विजय ने कहा- तानाशाही की आहट, संसद पहुंचने से पहले मुस्कुराए थे अमित शाह

सोहागपुर में निकलेगी शोभायात्रा

चौरसिया समाज के द्वारा सोहागपुर में नागपंचमी को चौरसिया दिवस के रूप में मनाया जाता है। हर वर्ष की तरह नागपंचमी के अवसर पर नागदेवता की शोभायात्रा निकाली जाएगी। आयोजन समिति के अध्यक्ष प्रतीक चौरसिया ने बताया कि नागदेवता की प्रतिमा की शोभायात्रा जवाहर वार्ड से शुरु होकर बिहारी चौक,कमानी गेट, मुख्यबाजार से होते हुए मंगल भवन में समापन होगा। शोभायात्रा में समाज के वरिष्ठजन सहित पूरी समाज के लोग शामिल होंगे। समापन स्थल पर नागदेवता को पान की वेल चढ़ाई जाएगी। उसके उसके बाद समाम के लोगों का सहभोज भी मंगल भवन में होता है।

बानापुरा में नागमंदिर में होगी पूजा

बानापुरा में नागदेवता का एक छोटा सा मंदिर हैं जिसमें बानापुरा के लोग मिल कर पूजन अर्चन करते हैं। यहां पर मोहल्ले के लोग एकि त्रत होकर मंदिर की साफ सफाई करते हैं। उसके बाद नागदेवता का सिंदूर से श्रृंगार कि या जाता है। उसके बाद सभी लोग बारी बारी से पूजन करते हैं।

@विचारोदय

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply