मध्य प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ कोरोना को लेकर विवादास्पद बयान देकर मुश्किल में पड़ गए हैं। कमलनाथ ने वैश्विक महामारी को इंडियन कोरोना बताया था। BJP विधायकों की शिकायत पर क्राइम ब्रांच भोपाल ने रविवार रात कमलनाथ के खिलाफ क्राइम ब्रांच ने मामला दर्ज किया।

Advertisement

कोरोना से नहीं वैक्सीन से डर लगता है: स्वास्थ्य विभाग की टीम को देख लोगों ने लगाई नदी में छलांग

कमलनाथ पर धारा 188 के तहत किया गया मामला दर्ज :

बता दें कि प्रदेश की राजधानी भोपाल में इस मामले को लेकर कल दिनभर चले आरोप-प्रत्यारोप के दौर के बाद शाम को मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर एफआईआर दर्ज कर ली गई है, राजधानी भोपाल की क्राइम ब्रांच में पूर्व सीएम के खिलाफ धारा 188 के तहत मामला दर्ज किया गया है वही डिजास्टर मैनेजमेंट की धारा 54 की धारा भी लगाई गई है।

रद्द नहीं होंगे CBSE 12th के एग्जाम?, राज्यों से मत मिलने के बाद इस दिन होगा फैसला

भ्रामक जानकारी फैलाने के तहत हुआ है मामला दर्ज :

मिली जानकारी के मुताबिक मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर कोरोना को लेकर भ्रामक जानकारी फैलाने के आरोप में केस दर्ज किया गया है, इसे लेकर बीजेपी के नेताओं ने थाने में जाकर आवेदन दिया था, शिकायत करने वालों में मंत्री विश्वास सारंग के अलावा विधायक कृष्णा गौर, रामेश्वर शर्मा और पूर्व महापौर आलोक शर्मा समेत अन्य नेता शामिल थे।

युवक को थप्पड़ जड़ना और फोन तोड़ना कलेक्टर को पड़ा भारी, मुख्यमंत्री ने दिया तत्काल बर्खास्त करने का निर्देश

कमलनाथ ने उज्जैन में बयान दिया था

शिकायत में कहा कि कमलनाथ ने 21 मई को उज्जैन दौरे पर कहा था कि विदेशों में भारतीयों के साथ दुर्व्यवहार किया जा रहा है। विदेशी मीडिया भारत में कोरोना को इंडियन वैरिएंट बता रहे हैं। ब्रिटेन में इंडियन ड्राइवर्स की टैक्सी में कोई नहीं बैठ रहा है। इससे पहले कमलनाथ ने आरोप लगाया था कि MP सरकार कोरोना से हो रही मौतों के आंकड़े छिपा रही है।

 

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply