महाराष्ट्र में शनिवार सुबह बड़ा सियासी उलटफेर हुआ। भाजपा के देवेंद्र फडणवीस ने दोबारा मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली। राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने उन्हें पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। वहीं, राकांपा नेता और शरद पवार के भतीजे अजित पवार को उपमुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई गई।

Advertisement

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के नतीजे 24 अक्टूबर को आए थे। ढाई-ढाई साल मुख्यमंत्री की बात पर भाजपा-शिवसेना गठबंधन में दरार पड़ गई। इसके बाद कई दौर की बातचीत के बाद शिवसेना-राकांपा और कांग्रेस में सरकार बनाने को लेकर सहमति बनती दिखी। शुक्रवार रात राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने साफ कर दिया था कि उद्धव ठाकरे के नेतृत्व पर सहमति बन गई है। कांग्रेस नेता पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा था कि बातचीत में कई मुद्दे सुलझा लिए हैं, लेकिन अभी कुछ मसलों पर बातचीत चल रही है।

मोदी ने फडणवीस को बधाई दी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देवेंद्र फडणवीस को ट्वीट कर बधाई दी। मोदी ने कहा, “फडणवीस जी को मुख्यमंत्री और अजित पवार जी को उपमुख्यमंत्री पद की शपथ लेने की बधाई। मुझे विश्वास है कि दोनों महाराष्ट्र के उज्ज्वल भविष्य के लिए परिश्रम और लगन से काम करेंगे।”

21 साल की उम्र में ही जज बन गए हैं राजस्थान के मयंक प्रताप सिंह

‘शिवसेना की वजह से ऐसा हुआ’

फडणवीस ने कहा, ‘‘हमारे नेता मोदी जी और शाह जी का बहुत आभार। उन्होंने फिर एक बार महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के रूप में मुझे सेवा करने का मौका दिया। महाराष्ट्र की जनता ने एक स्पष्ट जनादेश दिया था। शिवसेना ने हमारे साथ गठबंधन करने के बजाय दूसरी जगह गठबंधन करने का फैसला किया। शिवसेना की वजह से ऐसी नौबत आई। महाराष्ट्र जैसे अगड़े राज्य को यह शोभा नहीं देता कि यहां ज्यादा दिन राष्ट्रपति शासन लगा रहे। यहां ऐसी कोई सरकार बननी भी नहीं चाहिए जो ज्यादा दिन चल न सके। मैं अजित पवार जी का शुक्रिया करना चाहूंगा कि वे हमारे साथ आए। इसलिए हमने राज्यपाल जी को दावा पेश किया। राज्यपाल जी ने राष्ट्रपति जी से चर्चा की कि शासन हटाने की अनुशंसा की जाए। इसलिए राज्यपाल जी ने हमें शपथ के लिए बुलाया।’’ अजित पवार ने कहा कि हम किसानों की समस्या हल करने के लिए साथ आए हैं।

भूकंप के तेज झटकों से हिला गुजरात, घरों से निकलकर भागे लोग
आज होनी थी प्रेस कॉन्फ्रेंस

तीनों दलों ने अपना न्यूनतम साझा कार्यक्रम तैयार कर लिया था। बताया गया था कि इसके कुछ बिंदुओं पर चर्चा शेष है। शनिवार को फाइनल बैठक के बाद तीनों दल साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस करके अपने निर्णय का औपचारिक ऐलान करेंगे। यह तय माना जा रहा था कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे बनेंगे। शनिवार को इसी बिंदु पर चर्चा के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस होनी थी।

बाला साहब की समाधि पर पहुंचे उद्धव ठाकरे
नेहरू सेंटर से निकलने के बाद शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा, ‘‘तीनों दलों की पहली बैठक हुई है। पहली बार कई बातों पर संवाद हुआ। हम नहीं चाहते हैं कि तीनों दलों के बीच कोई भी बात छूट जाए। चर्चा सकरात्मक हुई है।’’ इसके बाद वे शिवसेना प्रवक्ता और सांसद संजय राउत, अपने बेटे आदित्य ठाकरे के साथ शिवसेना संस्थापक बाला साहब ठाकरे की समाधि पर पहुंचे और उनसे आशीर्वाद लिया। इसके बाद माना जा रहा है कि उद्धव ठाकरे ने सीएम पद लेने पर सहमति जता दी है।

टूटे चार्जर के इस्तेमाल से बड़ा हादसा…

महाराष्ट्र में कुल सीटें: 288/ बहुमत: 145 

दल  सीटें
शिवसेना 56
एनसीपी 54
कांग्रेस 44
कुल  154
निर्दलीय 9 विधायक साथ होने का दावा
तब कुल संख्या बल  163

महाराष्ट्र में अन्य दलों की स्थिति 

पार्टी सीट
भाजपा 105
बहुजन विकास अघाड़ी 3
एआईएमआईएम 2
निर्दलीय और अन्य दल 15
कुल  125

दोकलम तक सड़कः 40 मिनट का हुआ रास्ता, सीमा पर बिछ रहा सड़कों का जाल

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply