मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह के 100 करोड़ वसूली से जुड़े आरोपों के मामले में बॉम्बे हाईकोर्ट के फैसले के बाद महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देखमुख ने इस्तीफा दे दिया है. मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने गृहमंत्री अनिल देशमुख पर वाजे को 100 करोड़ की हफ्तावसूली का टारगेट देने का आरोप लगाया था. इसके बाद बॉम्बे हाईकोर्ट ने मामले में जनहित याचिका सुनवाई करते हुए आज बड़ा फैसला सुनाया था. हाईकोर्ट ने इस पूरे प्रकरण की जांच सीबीआई को सौंप दी.

Advertisement

कैच आउट होने से गुस्साए बल्लेबाज ने बल्ले से फील्डर को पीटा, अबतक है बेहोश

इतना ही नहीं कोर्ट ने सीबीआई को यह भी निर्देश दिया है कि वे इस संबंध में 15 दिनों के अंदर प्राथमिक रिपोर्ट पेश करे और उनकी जांच में कोई तथ्य सामने आता है तो आगे की कार्रवाई करे. एडवोकेट जयश्री पाटील ने अनिल देशमुख के खिलाफ यह याचिका दाखिल की थी. इस मामले में अब एनसीपी चीफ शरद पवार का नाम भी उछाला जाने लगा है.

पड़ोसी दंपती बच्ची को लेना चाहता था गोद, मां ने बच्ची देने से इनकार किया तो कर लिया किडनैप

अनिल देशमुख ने पहले शरद पवार से की थी मुलाकात
बॉम्बे हाईकोर्ट के मुख्य न्यायमूर्ति दीपांकर दत्ता और न्यायमूर्ति जी.एस.कुलकर्णी की खंडपीठ में मामले में सुनवाई की. बॉम्बे हाईकोर्ट के फैसले में पूरे प्रकरण को सीबीआई को सौंपा जाना महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख के लिए बहुत बड़ा झटका समझा जा रहा है.

भोपाल के JP अस्पताल में लोग करते रहे वैक्सीन का इंतजार,रविवार सुबह 9 बजे न वैक्सीन पहुंची; न पूरा स्टाफ

अनिल देशमुख के इस्तीफे पर नवाब मलिक ने प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा कि अनिल देखमुख ने मुख्यमंत्री ने मिलकर अपना इस्तीफा दिया है. उन्होंने इससे पहले शरद पवार से मिलकर इच्छा जताई थी कि जब तक मामले में जांच चल रही है वो मंत्री पद पर नहीं बने रहना चाहते.

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply