भोपाल। मध्यप्रदेश में पिछले चार दिनों से चल रही पटवारियों की बैठक रविवार सुबह खत्म हो गई। पटवारी संघ के सदस्य राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत से मिले और अपनी बात उनके सामने रखी। इसके बाद मंत्री और पटवारी संघ के पदाधिकारियों ने मीडिया के सामने आकर ऐलान किया कि हड़ताल आज से खत्म हो गई है। प्रदेश में बारिश और बाढ़ से खराब हुई किसानों की फसलों को मुआवजा दिलवाने के कार्य के लिए पटवारियों ने यह हड़ताल खत्म की है। मंत्री ने कहा कि अगले 6 महीने में पटवारियों का वेतनमान बढ़ेगा, इसको लेकर एक ड्राफ्ट सीएम कमलनाथ को भेजने की तैयारी है। पटवारी पूरी तरह से प्रदेश के किसानों के साथ खड़े हैं। पटवारी संघ का कहना है कि हमारी सरकार से इस बारे में लगातार बात चल रही थी।

सपना चौधरी को नहीं मिला हरियाणा विधानसभा चुनाव में टिकट..

मंत्री जीतू पटवारी द्वारा पटवारियों को लेकर दिए गए बयान से भी वे नाराज थे। जिसके बाद मंत्री ने सार्वजनिक रूप से खेद व्यक्त किया था और कहा था कि मेरा बयान एक व्यक्ति के लिए था जो सही तरीके से काम नहीं करते। पटवारी संघ का कहना है कि मंत्री ने खेद व्यक्त किया, इसके बाद हमने हड़ताल वापस लेने का निर्णय लिया। उनका कहना है कि हम अपने सम्मान के लिए लड़ रहे थे। उधर मंत्री राजपूत का कहना है कि पटवारियों ने किसानों की समस्याओं को समझा और अब वे दोगुना रफ्तार के साथ किसानों को उनका हक दिलाने के लिए काम करेंगे।

दुर्गा पंडाल में पहुंची रानी मुखर्जी, कहा- मर्दानी में मां दुर्गा का..

गौरतलब है कि प्रदेश के कई इलाकों में भारी बारिश और बाढ़ की वजह से किसानों की फसलें खराब हो गई हैं। सरकार इसके लिए सर्वे कराकर किसानों को तुरंत मुआवजा देने की कोशिश कर रही थी, तभी मंत्री जीतू पटवारी के बयान के बाद पटवारियों हड़ताल पर चले गए। इसके बाद किसानों की फसलों का सर्वे का काम रुक गया था। पटवारी संघ और सरकार के बीच लगातार चली बैठकों के बाद वे वापस काम पर लौट आए।

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply