कोरोना वायरस से निपटने के लिए देश में लॉकडाउन लागू है. वहीं मोदी सरकार ने अब लॉकडाउन में फंसे लोगों को उनके गृह राज्य पहुंचाने के लिए ट्रेनों को चलाने की इजाजत दी है. इसके साथ ही रेल मंत्रालय ने ‘श्रमिक स्पेशल ट्रेन’ चलाए जाने का ऐलान किया है.

Advertisement

संकट में मजदूर, ये रुके तो देश रुक जाएगा’, राहुल-प्रियंका ने श्रमिकों को किया सलाम..

रेल मंत्रालय ने बताया कि गृह मंत्रालय की ओर से जारी गाइडलाइन के मुताबिक प्रवासी मजदूरों, तीर्थयात्रियों, पर्यटकों, छात्रों और अन्य व्यक्तियों को अलग-अलग स्थानों पर ले जाने के लिए एक मई मजदूर दिवस से ‘श्रमिक स्पेशल ट्रेन’ चलाने का फैसला लिया गया है.

नोडल अधिकारी होंगे नियुक्त

रेल मंत्रालय ने बताया कि इन स्पेशल ट्रेनों को ऐसे फंसे हुए व्यक्तियों को लाने-ले जाने के लिए मानक प्रोटोकॉल के अनुसार संबंधित राज्य सरकारों के अनुरोध पर प्वॉइंट-टू-प्वॉइंट तक चलाया जाएगा. रेलवे और राज्य सरकारें इन ‘श्रमिक स्पेशल ट्रेन’ के समन्वय और सुचारू संचालन के लिए वरिष्ठ अधिकारियों को नोडल अधिकारी नियुक्त करेंगी.

डोनाल्ड ट्रंप बोले- WHO चीन के लिए PR एजेंसी की तरह..

होगी जांच

वहीं यात्रियों को भेजने वाले राज्यों की ओर से उनकी जांच की जाएगी. साथ ही केवल बिना लक्षण वाले यात्रियों को ही यात्रा की इजाजत होगी. प्रत्येक यात्री को अपना मुंह ढककर रखना होगा. साथ ही भेजने वाले राज्यों के जरिए यात्रियों को मूल स्टेशन पर भोजन और पीने का पानी उपलब्ध कराया जाएगा.

रेलवे स्टेशन पर स्क्रीनिंग

वहीं गंतव्य पर पहुंचने के बाद राज्य सरकार के जरिए यात्रियों को रिसीव किया जाएगा. इस दौरान रेलवे स्टेशन पर स्क्रीनिंग और स्टेशन से आगे की यात्रा का इंतजाम किया जाएगा. वहीं अगर जरूरी लगे तो यात्रियों को क्वारनटीन भी किया जा सकेगा.

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार के 20 हजार करोड़ के सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट पर स्टे लगाने से इनकार किया

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply