मंत्रालय में नौकरी के बहाने लगाया 10 लाख का चूना,थमाया फर्जी जॉइनिंग लेटर

नगरीय विकास मंत्रालय में नौकरी  के लिए थमाया फर्जी जॉइनिंग लेटर, हड़पे 10 लाख रुपए
Advertisement

मंत्रालय में नौकरी लगाने के नाम पर मध्य प्रदेश के ग्वालियर में एक बाप बेटे की जोड़ी ने ठगी कर ली है इतना ही नहीं जालसाजों ने पुलिस की तैयारी कर रहे छात्र को मंत्रालय में नौकरी लगवाने के नाम पर 10 लाख रुपए ऐंठ लिए ठगों ने छात्र के पिता को अपने जाल में फंसाया बड़े-बड़े अफसरों और IAS अधिकारियों के साथ फोटो और मोबाइल पर कॉल आने की बात कहकर छात्र के पिता को झांसे में लिया। इसके बाद नगरीय विकास मंत्रालय में नौकरी लगवाने के नाम पर 10 लाख रुपए ले लिए। दो बार छात्र के मोबाइल पर ज्वाइनिंग लेटर भी दिया, लेकिन किसी कारण ज्वाइनिंग टलवा दी।

भोपाल में पकड़ाए दो नकली पुलिसकर्मी,5 बार जा चुके हैं जेल

छात्र को भोपाल नगरीय विकास मंत्रालय के बाहर तक ले गए फिर लौटा दिया। जब बार-बार ज्वाइनिंग लेटर मिलने फिर ज्वाइनिंग नहीं कराने पर पड़ताल की तो ठगी का पता लगा। घटना अक्टूबर 2021 से लेकर अभी तक की है। ठगी के शिकार छात्र ने बेहट थाने में मामले की शिकायत की है। पुलिस ने ठगी का मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस को यह भी पता लगा है कि यह लोग इस तरह कई युवाओं को ठग चुके हैं।

गर्भवती महिला ने पुलिस के सामने इच्छा मृत्यु की गुहार लगाई

थमाया नकली ज्वाइनिंग लेटर
खाते में 9 लाख 44 हजार रुपए पहुंचने के बाद रूप नारायण व शिवनारायण ने उसे एक ज्वाइनिंग लेटर दिया और बताया कि ज्वाइनिंग कराने के लिए शिवनारायण जाएगा। इसके बाद शिवनारायण व राममोहन भोपाल पहुंचे तो मंत्रालय के बाहर छोड़कर शिवनारायण अंदर चला गया और कुछ देर बाद दूसरा ज्वाइनिंग लेटर उसे थमाया कि उसकी दो माह बाद ज्वाइनिंग है। दो माह बाद जब ज्वाइनिंग का समय आया तो फिर से उन्होंने टालमटोल की तो उसे शंका हुई और पता किया तो ज्वाइनिंग लेटर फर्जी निकला है। इसका पता चलते ही पीड़ित थाने पहुंचा और मामले की शिकायत की। पुलिस ने उसकी शिकायत पर जांच के बाद मामला दर्ज कर लिया है।

महंगाई और भाड़ा भत्ते की मांग को लेकर सात दिन की हड़ताल पर सरकारी कर्मचारी

यह है पूरा मामला
बेहट के घुसगंवा निवासी राममोहन पुत्र पान सिंह गुर्जर छात्र है। वह पुलिस विभाग में जॉब के लिए तैयारी कर रहा है। वह ग्वालियर शहर में लेकर कोचिंग करता है। गांव में उसके पिता किसानी करते हैं। अक्टूबर 2021 में पान सिंह गुर्जर को पड़ोसी गांव रनगंवा के रूपनारायण शर्मा और उसके बेटे शिवमोहन शर्मा ने किसी काम से अपने घर बुलाया और बताया कि उनकी अच्छी जान पहचान है और वह राममोहन की सरकारी नौकरी भोपाल नगरीय विकास मंत्रालय में लगवा देंगे। नौकरी लगवाने के लिए पिता-पुत्र ने पान सिंह से दस लाख रुपए की मांग की तो उसके पिता इसके लिए तैयार हो गए। इसके बाद 6 लाख 10 हजार रुपए नगद देकर शेष रुपए बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर दिए। विभिन्न तारीखों में रुपए उनके खाते में जमा करने के बाद वह नौकरी का इंतजार करने लगा।

पुलिस का कहना
एएसपी राजेश दंडौतिया ने बताया कि छात्र की शिकायत पर एक युवक और उसके पिता के खिलाफ ठगी का मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश की जा रही है। जल्द ही आरोपियों को पकड़ लिया जाएगा।

हमसे व्हाट्सएप ग्रुप पर जुड़े

मनोरंजन की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

खेल की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

रोजगार की खबरें पढ़ने के लिए करें क्लिक

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply